भरतपुर में पटवार भर्ती परीक्षा के प्रश्न पत्र की सौदेबाजी का पर्दाफाश, 12 अरेस्ट

भरतपुर। राजस्थान के भरतपुर में पुलिस ने राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड जयपुर द्वारा आयोजित पटवार भर्ती परीक्षा वर्ष 2021 के प्रश्न पत्र की सौदेबाजी एव परीक्षा से पूर्व प्रश्न पत्र प्राप्त करने वाली गैंग का पर्दाफाश कर मामले में 12 लोगों को आज गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपियों में पति-पत्नी भी शामिल है।

पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र कुमार बिश्नोई ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में पांच पटवार भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थी है। बताया गया है कि गिरफ्तार आरोपियों से पटवार भर्ती परीक्षा के पेपर को लीक करने के लिए 12-12 लाख रुपए की मांग की गई थी जिसकी एवज में उन्होंने पेयर लीक गिरोह को 2-2 लाख के चेक दिए हैं।

गिरफ्तार आरोपियों में से पांच आरोपियों को उत्तरप्रदेश के आगरा से लीक पेपर लेकर वापस भरतपुर लौटते समय राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 21 के ऊंचा नगला पर गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में पता चला है कि ये सभी लीक पेपर को लेकर अलवर जा रहे थे।

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान प्रदीप सिंह गुर्जर निवासी कमालपुरा थाना भुसावर जिला भरतपुर, इंदरजीत सिंह गुर्जर निवासी खरेरा थाना उच्चौन जिला भरतपुर, अरूण सिंह जाट निवासी विजवारी थाना भुसावर जिला भरतपुर, त्रिलोक सिंह गुर्जर निवासी सरसैना थाना वैर जिला भरतपुर, मनीषा देवी गुर्जर निवासी खरेरा थाना उच्चौन जिला भरतपुर, विष्णु गुर्जर निवासी सिघाडा थाना रूदावल, जीतेन्द्र सिंह गुर्जर निवासी नावर थाना वैर, पिन्टू कुमार गुर्जर निवासी नया गांव थाना बयाना, राजेश कुमार धाकड निवासी रेल्वे स्टेशन के पास ब्रहमबाद थाना रूदावल, जीतेन्द्र कुमार गुर्जर निवासी भीतरवाडी बयाना थाना बयाना, शुभम वैश्य निवासी पुराना बस स्टेण्ड वैर थाना वैर एवं सोनू जाटव निवासी लाल दरवाजा बयाना थाना बयाना जिला भरतपुर के रूप में की गई है। पुलिस की कई टीमें आरोपियों से पूछताछ में जुटी है।

मूल अभ्यर्थियों के स्थान पर दो डमी परीक्षार्थी पकडे

बारां जिला मुख्यालय पर आज से शुरू हुई पटवारी भर्ती परीक्षा के दौरान मूल अभ्यर्थियों के स्थान पर डमी फर्जी परीक्षार्थी बिठाने और नकल कराने वाले कुछ को पुलिस ने पकडा लिया हैं।

जिला पुलिस अधीक्षक कल्याणमल मीणा ने बताया कि असली अभ्यर्थियों की जगह पटवारी परीक्षा देने पहुंचे 2 डमी कैंडिडेट गिरफतार किए है वही उनके तीन साथियों को राउंडअप किया है। दोनों आरोपी दूसरे अभ्यर्थी के जगह परीक्षा देने आए थे। पुलिस गिरोह के पकड़े गए सदस्यों से पूछताछ कर रही है।

उन्होंने बताया कि दरअसल, दौसा निवासी चेतन सिंह मीणा का सेंटर अपेक्स स्कूल में आया था, लेकिन उसकी जगह पर बिहार के पटना निवासी रोशन कुमार परीक्षा देने पहुंचा। स्कूल के गेट पर सुरक्षाकर्मियों के जांच के दौरान अभ्यर्थी की फोटो परीक्षा देने जा रहे युवक से मेल नहीं खाई।

इस पर अभ्यर्थी से पूछताछ की गई तो वह हड़बड़ा गया। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने फर्जी अभ्यर्थी रोशन कुमार को तुरंत पकड़ लिया। वहीं दौसा निवासी दिलराज की जगह जोधपुर के कान्हासर निवासी रोहिताश को पेपर देते पकड़ा गया है।

दोनों डमी कैंडिडेट को पकड़ने की सूचना जैसे ही उच्च अधिकारियों को मिलते ही एडीएम बृजमोहन बैरवा तथा एसपी कल्याणमल मीणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विजय स्वर्णकार, पुलिस उपाधीक्षक मनोज गुप्ता, शहर कोतवाल मांगेलाल यादव मौके पर पहुंचे।

पुलिस ने जिन दोनों फर्जी कैंडिडेट को पकड़ा है, जिनके तीन साथियों को राउंडअप भी किया है। जिनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस अधिकारी पूछताछ करके जांच पडताल कर रहे है।

गौरतलब है कि बारां जिला मुख्यालय के 19 केंद्रों पर दो पारियों में पटवारी भर्ती परीक्षा हो रही है। पुलिस के मिले सुराग के चलते शहर के एक केन्द्र पर परीक्षा के पहले कार्रवाई करते हुए पुलिस ने लगभग आधा दर्जन फर्जी को पकडा था।