लाओस में पनबिजली बांध टूटने से 19 लोगों की मौत और 3000 लोग फंसे

लाओस में पनबिजली बांध टूटने से 19 लोगों की मौत और 3000 लोग फंसे
लाओस में पनबिजली बांध टूटने से 19 लोगों की मौत और 3000 लोग फंसे

बैंकॉक । दक्षिण-पूर्व एशिया स्थित देश लाओस में एक निर्माणाधीन पनबिजली बांध के टूट जाने से 19 लोगों की मौत हो गयी है और तीन हजार से अधिक लोग बाढ़ में फंसे हुए हैं। दक्षिण कोरिया ने बचाव कार्यों में मदद के लिए एक आपात राहत टीम भेजी है।

यह पुल सोमवार शाम को टूट गया था। कई लोगों के मरने और सैकड़ों लोग लापता होने की रिपोर्ट थी। अंग्रेजी समाचार पत्र ‘वियतनाम टाइम्स ने बुधवार को अधिकारियों के हवाले से बताया कि तीन हजार से अधिक लोग बाढ़ के पानी में फंसे हुए हैं जबकि दो हजार 851 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।

बांध बनाने वाली दक्षिण कोरियाई कंपनी एस के इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन ने दावा है कि भारी बारिश और बाढ़ के कारण यह हादसा हुआ है। उसने कहा कि रविवार को बांध में दरार देखे जाने के बाद 12 गांवों को तत्काल खाली करने का अादेश दे दिया गया था।

इस बीच व्यापक स्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चलाये जा रहे हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को नौकाओं से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है। लाओस समाचार एजेंसी के अनुसार अत्तेपू प्रांत स्थित जीपैन जे नाम नोय पनबिजली बांध के सोमवार शाम टूट जाने से कम से कम सात गांव बाढ़ की चपेट में आ गये। बाढ़ की वजह से 6600 से अधिक लोग बेघर हो गये हैं।

वर्ष 2013 में इस बांध का निमार्ण शुरू हुआ था और इस साल से इससे बिजली का उत्पादन शुरू होना था। इस बांध का अगले साल से व्यावसायिक इस्तेमाल शुरू होना था। लाओस और थाइलैंड के बीच हुए समझौते के तहत यहां पैदा होने वाली 90 प्रतिशत बिजली थाइलैंड को मिलनी थी।

इस देश की सीमाएं उत्तर-पश्चिम में म्यान्मार और चीन से, पूर्व में कंबोडिया, दक्षिण में वियतनाम और पश्चिम में थाईलैंड से मिलती हैं। इसे हजार हाथियों की भूमि भी कहा जाता है।