चीन में योग सिखाने के लिए योग प्रशिक्षकों का एक 22 सदस्यीय दल जायेगा

चीन में योग सिखाने के लिए योग प्रशिक्षकों का एक 22 सदस्यीय दल जायेगा
चीन में योग सिखाने के लिए योग प्रशिक्षकों का एक 22 सदस्यीय दल जायेगा

नयी दिल्ली | दुनिया के अन्य देशों के साथ चीन में भी लोगों में योग का आकर्षण बढ़ रहा है और चीन की माँग पर अगले सप्ताह योग प्रशिक्षकों का एक 22 सदस्यीय दल वहाँ भेजा जा रहा है।

आयुष (आयुर्वेद, योग, यूनानी, सिद्ध एवं होम्योपैथी) विभाग के सचिव राजेश कोटेचा ने आज यहाँ अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के बारे में जानकारी देने के क्रम में बताया कि अगले सप्ताह 22 प्रशिक्षकों का एक दल चीन जायेगा। इस दल के सदस्यों के नाम मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान द्वारा तय किये जायेंगे। यह दल एक सप्ताह तक वहाँ रहेगा। आयुष विभाग के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि विदेश मंत्रालय के अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् की पहल पर योग प्रशिक्षकों को चीन भेजा जा रहा है। इसके लिए चीन से माँग आयी थी। उन्होंने बताया कि दुनिया के 50 देशों में परिषद् के स्थायी कार्यालय हैं। इन कार्यालयों में पिछले साल योग प्रशिक्षक भी नियुक्त किये गये थे। चीन में भी एक केंद्र है, लेकिन वहाँ से माँग आने के कारण अतिरिक्त प्रशिक्षकों को भेजा जा रहा है। अधिकारी का कहना है कि चीन में योग काफी लोकप्रिय है। पिछले साल भी एक 22 सदस्यी दल वहाँ भेजा गया था।

श्री कोटेचा ने बताया कि इस बार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 21 जून को अब तक का सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा। इसका आयोजन उत्तराखंड के देहरादून में होगा जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 45 मिनट के योग कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद योग पुरस्कार भी देंगे। इसके अलावा देश भर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होगा। देश में स्थित सभी दूतावासों के साथ देश के सभी जिलों में सरकारी संस्थानों और गैर सरकारी संगठनों की मदद से योग प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। उद्योग संगठनों तथा सीबीएसई, एनसीईआरटी, यूजीसी जैसे शैक्षणिक संस्थानों को भी कार्यक्रम का हिस्सा बनाया गया है।

केरल के पर्यटन मंत्रालय द्वारा योग दूत पर्यटन का आयोजन किया जायेगा जिसमें 100 विदेशी योग पेशेवरों, प्रशंसकों तथा पत्रकारों को योग से जुड़े राज्य के 10 स्थलों का दौरा कराया जायेगा। आयुष सचिव ने बताया कि देश में राष्ट्रीय स्तर के योग संस्थानों की जरूरत को देखते हुये हरियाणा के झज्जर और गोवा में इस तरह के दो संस्थान बनाने की दिशा में काम शुरू हो गया है।