शेयर बाजार में मुनाफावसूली से निवेशकों के डूबे 3.72 लाख करोड़

3.72 lakh crore of investors drowned due to profit booking
3.72 lakh crore of investors drowned due to profit booking

मुंबई। वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर आईटी, एनर्जी, धातु, टेक रियलिटी, ऑटो आदि समूहों में हुई भारी मुनाफा वसूली से शेयर बाजार में हुई दो फीसदी से अधिक की गिरावट के कारण सोमवार को निवेशकों के 3.72 लाख करोड़ रुपए डूब गए।

सेंसेक्स आज 1145 अंक गिरकर 50 हजार अंक से नीचे 49744 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज एनएसई का निफ्टी 306 अंक लुढ़क कर 14675.70 अंक पर आ गया। बीएसई का सेंसेक्स 1145.44 अंक फिसलकर 49744.32 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 306.05 अंक गिरकर 14675.05 अंक पर आ गया।

दिग्गज कंपनियों की तुलना में छोटी और मझौली कंपनियों में बिकवाली का दबाव कम देखा गया। बीएसई का मिडकैप 1.34 प्रतिशत उतरकर 19766.23 अंक पर और स्मॉल कैप 1.01 फीसदी गिरकर 19661.89 अंक पर रहा। आज की बिकवाली के कारण बीएसई का बाज़ार पूंजीकरण 371889.82 करोड़ रुपए घटकर 20026498.14 करोड़ रुपए पर आ गया।

बीएसई का सेंसेक्स आज 20.75 अंक की बढ़त के साथ 50910.51 अंक पर खुला और 50986.03 अंक के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। दोपहर बाद यह लगातार जारी मुनाफा वसूली के कारण अंत में यह पिछले दिवस के 50889.76 अंक के मुकाबले 2.25 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ 49744.32 अंक पर बंद हुआ।

निफ्टी 17.30 अंक की बढ़त के साथ 14,999.05 अंक पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 15,010.10 अंक और न्यूनतम स्तर 14,635.05 अंक रहा। अंत में यह गत दिवस की तुलना में 306.05 अंक की भारी गिरावट के साथ 14,675.70 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 10 कंपनियों के शेयर चढ़े और शेष 40 लाल निशान में रहे।

बीएसई में अधिकांश समूह गिरावट में रहे जिसमें एनर्जी में 2.92 प्रतिशत, रियलिटी में 2.88 प्रतिशत, इंफाॅर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में 2.58 प्रतिशत और टेक में 2.53 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। जबकि मेटल में 2.24 प्रतिशत और बेसिक मैटिरियल्स में 0.29 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

वैश्विक स्तर पर एशिया में चीन के शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग के हैंगसैंग में गिरावट दर्ज की गयी जबकि जापान के निक्की में वृद्धि दर्ज की गई। जापान के निक्की में 0.46 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गयी, हांगकांग के हैंगसैंग में 1.06 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि चीन के शंघाई कम्पोजिट में 1.45 प्रतिशत की कमी देखी गई। वहीं यूरोप के मुख्य सूचकांकों में जर्मनी के डैक्स में 0.55 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि ब्रिटेन के एफटीएसई में 0.58 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

सेंसेक्स में गिरावट और बढ़त में रहने वाली कंपनियों में महिंद्रा में 4.51, भारतीय स्टेट बैंक में 2.45 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक में 0.64, अल्ट्राटेक सीमेंट में 0.53, नेस्लेइंडिया में 1.75, रिलायंस में 3.52, पावरग्रिड में 3.14, एचडीएफसी में 3.04 प्रतिशत, एनटीपीसी में 2.21, डॉरेड्डी में 0.61, हिन्दुस्तान यूनिलीवर में 0.64 प्रतिशत, एलएंडटी में 3.68, मारुति में 3.3, भारती एयरटेल में 1.76 प्रतिशत, टाइटन में 1.47 प्रतिशत, इंडसइंड बैंक में 4.25, बजाजफाइनेंस सर्विस में 2.45, एचसीएलटेक में 3.21, बजाजऑटो में 0.88, टेकमहिंद्रा में 4.42, आईसीआईसीआई बैंक में 2.25, इंफोसिस में 2.06, एशियनपेंट में 1.31, एक्सिसबैंक में 3.96 और ओएनजीसी में 1.14 प्रतिशत, आईटीसी में 1.83 प्रतिशत, सन फार्मास्यूटिकल्स में 1.93, बजाजफाइनेंस में 2.17, कोटैक महिंद्रा बैंक में 0.58 और टीसीएस में 3.69 प्रतिशत की वृद्धि और गिरावट दर्ज की गई।