कश्मीर मुठभेड़ में 13 आतंकवादी ढेर, 3 जवान शहीद

3 jawans martyred, 11 terrorists gunned down in separate encounters in south Kashmir
3 jawans martyred, 11 terrorists gunned down in separate encounters in south Kashmir

अवंतिपोरा। दक्षिण कश्मीर में रविवार को मुठभेड़ की तीन अलग-अलग घटनाओं में 13 आतंकवादी मारे गए और तीन जवान शहीद हो गए। इस दौरान सुरक्षा बलों के साथ झड़प में दो नागरिकों की भी मौत हो गई तथा 40 अन्य घायल हो गए।

प्रशासन ने इस क्षेत्र में किसी भी तरह की अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए शनिवार रात से ही मोबाइल इंटरनेेट सेवा पर प्रतिबंंध लगा रखा है तथा सुरक्षा कारणों से श्रीनगर और बनिहाल एवं जम्मू के बीच रेल सेवा स्थगित कर दी गई है।

गौरतलब है कि गत शनिवार को इसी इलाके में एक विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) की हत्या कर दी गयी थी तथा एक अन्य को घायल कर दिया गया था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि काचडाेरा से पांच आतंकवादियों के शवों की बरामदगी के साथ ही दक्षिण कश्मीर में तीनों मुठभेड़ों में मारे गए आतंकवादियों की संख्या बढकर 13 हो गई है।

इससे पूर्व पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने ट्वीट कर बताया था कि शोपियां के काचडोरा में तीन और आतंकवादियों के शवों के बरामद होने के बाद दक्षिण कश्मीर में हुए तीनों मुठभेड़ों में मारे गए आतंकवादियों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है।

उन्होंने कहा कि काचडोरा में मारे गए आतंकवादियों की संख्या बढ़ भी सकती है क्योंकि आतंकवादी जिस मकान में छिपे हुए थे उसके मलबे को हटाया जा रहा है। मुठभेड़ के दौरान उस मकान को ध्वस्त कर दिया गया था और उसमें चार से पांच आतंकवादियों के छिपे होने की खबर थी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि काचडोरा मुठभेड़ के दौरान घायल एक जवान की अस्पताल में मौत हो जाने के बाद शहीद हुए जवानों की संख्या बढ़कर तीन हो गई है। हालांकि इसकी सेना की ओर से आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की गई है।

शोपियां के ही द्रागाद में हुए मुठभेड़ में सात आतंकवादी मारे गए जबकि अनंतनाग के पेठ डायलगाम में एक आतंकवादी मारा गया। अनंतनाग में हुए मुठभेड़ के दौरान एक अन्य आतंकवादी के समर्पण करने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मारे गए सात आतंकवादियों की पहचान जुबैर अहमद, इश्फाक अहमद मलिक, यावर इटू, नाजीम अहमद डार, आदिल अहमद ठोकर, उबेद अहमद मल्ल और रइस अहमद ठोकर के रूप में की गई है।

अभियानों के बारे में विस्तार से बताते हुए पुलिस महानिदेशक ने कहा कि आज तीन स्थानों पर मुठभेड़ हुए जिसमें दो समाप्त हो गए जबकि एक जारी है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आतंकवादियों से आत्मसमर्पण के लिए दबाव बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि मैं नहीं समझता कि विश्व में कहीं भी सुरक्षा बलों ने एकसाथ इसतरह का अभियान चलाया हो।

उन्होंने बताया कि अनंतनाग के पेठ डायलगाम में हमारे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने जो विशेष प्रयास किए वैसा विश्व के किसी हिस्से में नहीं किया गया। उन्होंने आतंकवादियों के परिवार के लोगों को मुठभेड़ स्थल पर बुलवाया तथा आतंकवादियों से उनकी 30 मिनटों तक बातचीत करवाई ताकि आतंकवादी आत्मसमर्पण कर दें, लेकिन एक आतंकवादी ने अपने परिवार की बात नहीं मानी तथा सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाता रहा।

डा. वैद्य ने बताया कि सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकवादी राेउफ मारा गया जबकि एक अन्य आतंकवादी ने आत्मसमर्पण कर दिया।

उन्होंने बताया कि मुठभेड़ के दौरान सेना के दो जवान शहीद हो गए जबकि सेना, सीआरपीएफ तथा पुलिस के कई जवान घायल हैं। उन्होंने बताया कि दोनों जवान काचडोरा में शहीद हुए जहां मुठभेड़ अभी भी जारी है।

उन्होंने बताया कि द्रागाद और काचडोरा में एक-एक नागरिक की भी मौत हो गई। द्रागाद में मारा गये व्यक्ति के घर में ही आतंकवादी छुपे हुए थे। पुलिस महानिदेशक के मुताबिक मुठभेड़ स्थलों पर घायल 31 लोगों में से 25 पीलेट लगने से तथा छह अन्य गोली लगने से घायल हैं।

दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई को लेकर लोगों का जोरदार प्रदर्शन चल रहा है और सुरक्षा बलों तथा प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों में 40 से अधिक लोग घायल हो गए हैं।