लखनऊ के लिवाना सुइट होटल में लगी आग, 4 की मौत, 8 घायल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हजरतगंज इलाके में स्थित होटल लिवाना सुइट में सोमवार को सुबह आग लग गई। इसमें दो महिलाओं सहित चार लोगों की मौत हो गई और आठ अन्य के घायल होने की पुलिस ने जानकारी दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अस्पताल जाकर घायलों का हालचाल लिया और घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं।

संयुक्त पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) पीयूष मोंडिया ने इस अग्निकांड में चार लोगों की माैत होने की पुष्टि करते हुए बताया कि शहर के मुख्य बाजार हजरतगंज थाना क्षेत्र में महात्मा गांधी मार्ग पर स्थित होटल लिवाना सुइट में सुबह के समय आग लगी। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस ने तत्काल राहत एवं बचाव कार्य शुरु किया। इसमें दर्जन भर से अधिक लोगों को होटल से बाहर निकाला गया।

उन्होंने बताया कि इनमें से 12 घायलों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां चिकित्सकाें ने दो महिलाओं सहित चार लोगों की इलाज के दौरान मौत होने की पुष्टि की है। अस्पताल में आठ घायलों का इलाज चल रहा है। अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि चार लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। मोंडिया ने बताया कि लगभग 6 घंटे तक चला राहत एवं बचाव अभियान पूरा कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि होटल को सील कर घटना के कारणों की जांच की जा रिही है।

मुख्यमंत्री योगी ने इस अग्निकांड की गहन जांच करने हेतु लखनऊ के मंडल आयुक्त और पुलिस आयुक्त को निर्देशित किया है। मुख्यमंत्री के निर्देश के कुछ समय बाद ही प्रमुख सचिव (गृह) संजय प्रसाद ने लिवाना सुईट होटल अग्निकांड की जांच के लिए आदेश जारी करते हुए इसके लिये 02 सदस्यीय टीम का गठन किया है। प्रसाद ने लखनऊ के मंडलायुक्त रोशन जैकब और पुलिस आयुक्त एसबी शिरोडकर को इस घटना की जिम्मेदारी सौंपते हुए तत्काल इसकी आख्या शासन का उपलब्ध कराने को कहा है।

घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी ने अस्पताल जाकर घायलों का हालचाल लेकर चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे घायलों के समुचित उपचार की हरसंभव व्यवस्था करें। उन्होंने इस दुर्घटना में घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। उन्होंने हादसे में घायल हुए सभी लोगों का नि:शुल्क उपचार कराने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है।

गौरतलब है कि आग लगने की घटना के कुछ देर बाद ही मुख्यमंत्री योगी ने इस पर संज्ञान लेते हुए घायलों को तत्काल इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाने के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी संक्षिप्त बयान में कहा गया कि योगी ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश देते हुए जिलाधिकारी और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर तत्काल पहुंचने और राहत एवं बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।

इस दौरान उपमुख्यमंत्री एवं चिकित्सा मंत्री बृजेश पाठक ने भी अस्पताल जाकर घायलों से मुलाकात की। पुलिस सूत्रों ने आग लगने की वजह बिजली का शॉर्ट सर्किट होने की आशंका जतायी है। पाठक ने बताया कि इस अग्निकांड में दम घुटने के कारण घायलों काे ऑक्सीजन सपोर्ट पर रख कर इलाज किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि होटल में आग लगने के बाद बिजली काट दी गई थी। इस वजह से होटल के कम्प्यूटर बंद होने के कारण इस अग्निकांड में हताहत हुए लोगों की शिनाख्त नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि होटल के कम्प्यूटर जल्द शुरु करवाने की कोशिश की जा रही है जिससे मृतकों एवं घायलों की पहचान कर उनके परिजनों को सूचित किया जा सके।

गौरतलब है कि इस होटल के पास तमाम बड़े व्यवसायिक प्रतिष्ठान स्थित हैं। आग लगने से पूरे इलाके में अफरा तफरी मच गई। सूचना पर पहुंचे दमकलकर्मियों और पुलिस बल के जवानों ने आग बुझाने के तत्काल प्रयास शुरु कर दिये। पुलिस ने बिजली का शॉर्ट सर्किट होने से आग लगने की आशंका व्यक्त की है।