कोरोना को लेकर केजुअल होना पड़ा भारी, शहरी क्षेत्रों में 60 घण्टे का कर्फ्यू शुरू

सिरोही में कर्फ्यू के कारण शाम को बन्द हुए बाजार।
सिरोही में कर्फ्यू के कारण शाम को बन्द हुए बाजार।

सबगुरु न्यूज-सिरोही। कोरोना को लेकर राज्य सरकार के आदेशानुसार जिले के शहरी क्षेत्रों में शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक का कर्फ्यू लगा दिया गया है। सभी निकायों में  शाम 6 बजने से पहले ही व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद करवा दिए गए। छह बजते ही सड़कें खाली हो गई। शाम को जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद और पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष की अगुवाई में पुलिस ने शाम को रुट मार्च किया।

जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद ने बताया कि कर्फ्यू की जो गाइड लाइन आई हैं उसके अनुसार मेडिकल, फल- सब्जी, दूध आदि जैसी आवश्यक सेवाएं सुचारू रहेंगी। लेकिन, अन्य सभी प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। ये बात अलग है कि शाम तक इसे लेकर कोई स्पष्ट निर्देश नहीं आने से 6 बजे सब्जी और दूध की दुकानें भी बन्द करवा दी गई थी।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अनुसार फिलहाल जिले में कोरोना के 1337 केस हैं। जिला कलेक्टर ने बताया कि इनमे से 1000 के लगभग होम आइसोलेशन में हैं।

सिरोही में कर्फ्यू के दौरान रुट मार्च करते जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक।
सिरोही में कर्फ्यू के दौरान रुट मार्च करते जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक।

-सिरोही के चिकित्सालय पर आबूरोड का लोड सबसे ज्यादा
जिले में कोरोना के सबसे खराब हालात आबूरोड के हैं। हालात ये हैं कि जिला मुख्यालय स्थित कोविड सेंटर में ऑक्सीजन पर निर्भर सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या आबूरोड के हैं। वहां पर आइसोलेशन सेंटर कल शुरू हो जाएगा।

आबूरोड के गंभीर मरीजों के सिरोही आने के तीन कारण है। एक तो वहां पर एमडी फिजिशियन नहीं है। दूसरा वहां ऑक्सीजन इक्यूपड बैड शुरू नहीं किये गए हैं। तीसरा लंग्स में इंफेक्शन में दिया जाने  वाला रेमडेसिविर इंजेक्शन कोविड गाइड लाइन के अनुसार जिला मुख्यालय पर ही लगाने के निर्देश हैं।

-कल से शुरू हो जाएगी कोविड लैब
जिला मुख्यालय पर स्थित कोविड लैब के माइक्रोबायलॉजिस्ट कोरोना इन्फेकटेड हो गए थे। इसके बाद कोरोना लैब बन्द कर दी गई थी। सिरोही के सेम्पल जोधपुर भेजे जा रहे थे। वहां से रिपोर्ट आने में तीन से चार दिन की देरी हो रही है।

जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ राजेश कुमार ने बताया कि कल तक सिरोही की लैब शुरु कर दी जाएगी। सेम्पल बहुत ज्यादा होने की वजह से इसे तीन शिफ्टों में चलाया जाएगा।

-जिले में भी बढ़ी ऑक्सीजन की खपत
जिले में इस बार हालात पहले से ज्यादा खराब हैं। आबूरोड समेत जिले के अन्य हिस्सों से जिला चिकित्सालय आने वाले अधिकतर मरीजों का ऑक्सीजन लेवल काफी कम आ रहा है। इसके पीछे की प्रमुख वजह असिमटमेटिक होने और शुरू में ऑक्सीजन की कमी के लक्षणों की जानकारी नहीं होना माना जा रहा है। इससे जिले में भी कोरोना फेटल हो चुका है।

सीएमएचओ डॉ राजेश कुमार ने बताया कि इस बार पहले से 50 टाइम्स ज्यादा ऑक्सीजन की मांग बढ़ गई है। सुमेरपुर से ऑक्सीजन की सप्लाई की नियमितता का ध्यान रखा ज रहा है। सिरोही जिला मुख्यालय में ऑक्सीजन एक्विपड बैड पर ऑक्सीजन की सप्लाई नियमित और सुचारू है।

-इनका कहना है….
आबूरोड के पीड़ित सिरोही आने की वजह उनकी गंभीर स्थिति है। वहां एमडी फिजिशियन नहीं है। इसकी वजह से वहां के चिकित्सक सुपर स्पेशियलिटी ट्रीटमेंट के।लिये सिरोही भेज रहे हैं। फिर रेमडेसिविर इंजेक्शन भी जिला चिकित्सालय में ही लग रहा है। कल आबूरोड में एमडी फिजिशियन की पोस्टिंग हो जाएगी। इसके बाद सिर्फ रेमडेसिविर वाले मरीज ही यहां आएंगे।
भगवती प्रसाद
जिला कलेक्टर, सिरोही।

सिरोही की कोरोना लैब कल तक शुरू हो जाएगी। इससे रिपोर्ट जल्दी आने लगेगी। लोगों के कोरोना को।लेकर जरूरत से ज्यादा लापरवाह हो जाने के कारण केसेज बढ़ रहे हैं।
डॉ राजेश कुमार
सीएमएचओ, सिरोही।