भ्रष्टाचार और परिवारवाद के खिलाफ पूरी ताकत से लड़ना होगा : मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद तथा परिवारवाद को देश के सामने दो बड़ी चुनौती करार देते हुए सोमवार को कहा कि यह स्थिति अच्छी नहीं है और इनके खिलाफ पूरी ताकत से लड़ना होगा।

मोदी ने आज यहां 76वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि देश के सामने दो बड़ी चुनौतियां हैं। पहली चुनौती भ्रष्टाचार, दूसरी चुनौती – भाई-भतीजावाद, परिवारवाद। एक तरफ वो लोग हैं जिनके पास रहने के लिए जगह नहीं है और दूसरी तरफ वो लोग हैं जिनके पास चोरी किया माल रखने की जगह नहीं है। ये स्थिति अच्छी नहीं है। हमें इनके खिलाफ पूरी ताकत से लड़ना होगा।

उन्होंने कहा कि सरकार यह कोशिश कर रही है कि जिन्होंने देश को लूटा है वह इसकी भरपायी भी करे। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार देश को दीमक की तरह खोखला कर रहा है, उससे देश को लड़ना ही होगा। हमारी कोशिश है कि जिन्होंने देश को लूटा है, उनको लौटाना भी पड़े, हम इसकी कोशिश कर रहे हैं।

देश में ज्यादातर संस्थानों में परिवारवाद हावी रहने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि जब मैं भाई-भतीजावाद और परिवारवाद की बात करता हूं, तो लोगों को लगता है कि मैं सिर्फ राजनीति की बात कर रहा हूं। जी नहीं, दुर्भाग्य से राजनीतिक क्षेत्र की उस बुराई ने हिंदुस्तान के हर संस्थान में परिवारवाद को पोषित कर दिया है।

उन्होंने कहा कि सबको मिलकर भ्रष्टाचार के खिलाफ नफरत का भाव पैदा करना होगा और इस मानसिकता के खिलाफ मजबूती से लड़ना होगा। उन्होंने कहा कि जब तक भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारी के प्रति नफरत का भाव पैदा नहीं होता, सामाजिक रूप से उसे नीचा देखने के लिए मजबूर नहीं करते, तब तक ये मानसिकता खत्म नहीं होने वाली है।

संकल्प से हर घर को मिला ‘नल से जल’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि हर लक्ष्य को हासिल करने में संकल्प महत्वपूर्ण होता है और इसी संकल्प का परिणाम है कि आज देश के हर घर में ‘नल से स्वच्छ जल’ पहुंचाने का काम तेजी से चल रहा है।

मोदी ने कहा कि हर संकल्प में सिद्धि होती है और यही वजह है कि 2019 में उन्होंने लालकिले की इसी प्राचीर से देश के हर घर को नल से जल पहुंचाने का जो संकल्प लिया था वह तेजी से आगे बढ़ रहा है और उन्हें पूरा विश्वास है कि 2024 के निर्धारित लक्ष्य तक यह काम पूरा कर लिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि लाखों परिवारों को नल से जल उपलब्ध कराने का काम संकल्प से ही संभव हो पाया है। यदि संकल्प लेकर चल पड़ें तो लक्ष्य स्वतः ही मिल जाता है और ऐसे ही संकल्प का फल है कि देश में हर घर में नल से जल पहुंच रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब राष्ट्र का आजादी की 100वीं वर्षगांठ समारोह के लिए अगले 25 साल में ‘अमृतकाल’ का संकल्प है और इस अवधि में निर्धारित लक्ष्य को हासिल करने का संकल्प पूरा करने में हमें प्रण के साथ काम करना है।

अगले 25 वर्ष नारी शक्ति के

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं ज्यादा से ज्यादा अवसर देने का आह्वान करते हुए सोमवार को कहा कि अगले 25 वर्ष में नारी शक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

मोदी ने कहा कि देश की नारी शक्ति हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही है। देश ‘अमृतकाल’ में प्रवेश कर रहा है। अगले 25 वर्ष देश के लिए महत्वपूर्ण होंगे। उन्होंने कहा कि इन 25 वर्षों में नारी शक्ति की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। अगले 25 वर्ष नारी शक्ति के लिए ‘स्वर्णकाल’ है । उन्होंने कहा कि नारी शक्ति को ज्यादा से ज्यादा अवसर देने पर सपने जल्दी पूरे होंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि नारी शक्ति देश के सिरमौर है।

भारत को शत-प्रतिशत विकसित राष्ट्र बनाने के लिए पांच प्रण लें देशवासी: मोदी

नारी को सम्मान एवं अवसर देने से अमृतकाल को लगेंगे नए पंख : मोदी