जातिवादी टिप्पणी : मुनमुन दत्ता को पूछताछ के बाद अंतरिम जमानत

हिसार। कथित जातिवादी टिप्पणी के मामले में टीवी धारावाहिक ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा‘ फेम अभिनेत्री मुनमुन दत्ता सोमवार को हांसी पुलिस के समक्ष पेश हुईं और जांच अधिकारी ने लगभग चार घंटे पूछताछ के बाद अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया गया।

अभिनेत्री अपने वकील एवं सुरक्षाकर्मियों के साथ पुलिस उपाधीक्षक विनोद शंकर के कार्यालय पहुंचीं। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत नहीं की। मुनमुन दत्ता की नौ मई 2021 को अपने यू-ट्यूब चैनल पर टिप्पणी के खिलाफ हांसी में 13 मई को मामला दर्ज कराया गया था।

सोशल मीडिया में गिरफ्तारी की मांग को लेकर हैशटैैग चलने पर अभिनेत्री ने हालांकि टिप्पणी के लिए यह कहते हुए माफी मांग ली थी कि भाषा की समझ न होने के कारण ऐसी टिप्पणी उन्होंने की थी और किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना उनका उद्देश्य नहीं था।

मुनमुन दत्ता की अग्रिम जमानत याचिका हिसार की एससी एसटी एक्ट के तहत स्थापित विशेष अदालत ने 28 जनवरी को खारिज कर दी थी, जिसके बाद उन्होंने अग्रिम जमानत के लिए पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय की शरण ली थी।

उच्च न्यायालय ने अभिनेत्री को हांसी में जांच अधिकारी के समक्ष पेश होकर जांच में शामिल होने को कहा था तथा जांच अधिकारी को आदेश किए गए हैं कि मुनमुन दत्ता को गिरफ्तार कर पूछताछ करने के बाद अंतरिम जमानत पर छोड़ दिया जाए।

अदालत ने जांच अधिकारी से 25 फरवरी को जांच रिपोर्ट अदालत में पेश करने के निर्देश भी दिए थे। इस बीच, शिकायतकर्ता रजत कलसन ने कहा कि एससी एसटी एक्ट में अंतरिम जमानत का प्रावधान नहीं है और वह उच्चतम न्यायालय में जाएंगे।