पंजशीर प्रांत ही अफगानिस्तान की शक्ति का एक मात्र स्रोत : मोहम्मद जहीर अघबार

रोम। ताजिकिस्तान में अफगानिस्तान के राजदूत मोहम्मद जहीर अघबार ने कहा है कि उनके देश की शक्ति का एक मात्र स्रोत पंजशीर प्रांत से तालिबान के खिलाफ किया जा रहा प्रतिरोध है।

गौरतलब है कि यह प्रांत काबुल से उत्तर-पूर्व स्थित है और अफगानिस्तान का एकमात्र ऐसा प्रांत है जिस पर अभी तक तालिबान कब्जा नहीं कर पाया है। उन्होंने समाचार पत्र ला रिपब्बलिका को दिए एक साक्षात्कार में अफगानिस्तान में नयी सरकार के गठन के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि कौन सी नई सरकार, कौन सा नया निजाम, काबुल में इस समय कोई नयी सरकार नहीं है और अफगानिस्तान ने वहां कब्जा किया है लेकिन उन्होंने अभी तक कोई सरकार नहीं बनाई है। अगर एक दिन वे ऐसा कर भी लेते हैं तो मुझे उम्मीद है कि कोई भी उन्हें मान्यता नहीं देगा।

राजदूत ने कहा कि अफगानिस्तान में इस समय केवल हमारे राष्ट्रीय हीरो अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद की एक मात्र वैधानिक सरकार है और इस सरकार का संचालन पहले से ही पंजशीर घाटी से किया जा रहा है। जहां तक अहमद मसूद का आतंकवादियों के साथ बातचीत का सवाल है तो यह युद्ध से पहले उन्हें उलझाए रखने की रणनीति है और वह कईं वर्षों से तालिबान से संघर्ष कर रहे हैं तथा इस संगठन का विरोध करने वाले अन्य समूह मसूद की कमान में आ रहे हैं।

मसूद ने सोमवार को विदेश नीति मैगजीन को एक साक्षात्कार में कहा था कि अगर तालिबान एक समावेशी सरकार बनाते हैं और सभी नागरिकों को समान अधिकार दिए जाने की गारंटी देते हैं तो वह तालिबान से हाथ मिलाने को तैयार हैं।