तालिबान को हिंसा खत्म करने पर की ‘सत्ता में हिस्सेदारी’ की पेशकश

काबुल। अफगानिस्तान सरकार ने आतंकवादी संगठन तालिबान को देश में हिंसा समाप्त करने पर सत्ता में हिस्सेदारी की पेशकश की है। समाचार चैनल अल जजीरा ने गुरुवार को एक सरकारी सूत्र के हवाले से यह जानकारी दी।

अफगानिस्तान सरकार का प्रस्ताव कतर के माध्यम से तालिबान तक पहुंचाया गया है जो अंतर-अफगान वार्ता का मेजबान है। तालिबान ने हालांकि ऐसा कोई प्रस्ताव मिलने से इनकार किया है। अल जजीरा ने तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन के हवाले से बताया कि सरकार को ओर से सत्ता में साझेदारी की कोई पेशकश नहीं की गई है।

शाहीन ने आश्वासन दिया कि तालिबान संक्रमणकालीन सरकार में शामिल होने के लिए तैयार है और राष्ट्रपति अशरफ गनी को उखाड़ फेंकने का उसका कोई इरादा नहीं है।

तालिबान ने किया अफगानिस्तान के 10वें प्रांत गजनी पर कब्जा

आतंकवादी संगठन तालिबान ने दावा किया है कि उसने अफगानिस्तान के गजनी प्रांत पर कब्जा कर लिया है और पिछले एक सप्ताह में यह 10वां प्रांत है, जिस पर संगठन ने कब्जा किया है। तालिबानी आतंकवादी दक्षिण-पूर्वी अफगानिस्तान के गजनी में सभी सरकारी कार्यालयों और संस्थानों में घुस गए हैं।

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि तालिबान ने प्रांतीय गवर्नर को राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख के साथ काबुल के लिए रवाना होने की अनुमति दे दी है। गवर्नर दाउद लगमानी के अंगरक्षकों को कथित तौर पर निरस्त्र कर दिया गया और दोनों पक्षों के बीच समझौते के आधार पर उन्हें काबुल भेजा गया है। अफगानिस्तान सरकार ने हालांकि गजनी पर तालिबान के कब्जे की पुष्टि नहीं की है। तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने ट्विटर पर कहा कि लड़ाकों ने पुलिस मुख्यालय, केंद्रीय जेल और अन्य सरकारी सुविधाओं पर नियंत्रण कर लिया है।

एक अन्य घटनाक्रम में, फराह प्रांत के गवर्नर के साथ चार सरकारी अधिकारियों ने तालिबान के सामने आत्मसमर्पण कर दिया और संगठन ने प्रांत में पुलिस मुख्यालय पर कब्जा करने का दावा किया। हेलमंद प्रांत के लश्कर गाह में तालिबान और सुरक्षा बलों के बीच लड़ाई जारी है। कर गाह क्षेत्रीय पुलिस मुख्यालय को तालिबान ने अपने कब्जे में ले लिया है।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने बुधवार को बल्ख प्रांत में मजार-ए-शरीफ का दौरा किया और सुरक्षा की बढ़ती स्थिति पर अफगानिस्तान के वरिष्ठ राजनेताओं मार्शल अब्दुल राशिद दोस्तम और अत्ता मोहम्मद नूर के साथ चर्चा की। सरकार ने सुरक्षा बलों के नेतृत्व में भी परिवर्तन किया।

स्पेशल ऑपरेशंस कोर के कमांडर जनरल हिबातुल्लाह अलीजई को जनरल वली अहमदजई की जगह सेनाध्यक्ष नियुक्त किया गया जबकि 215 मैवंड कोर के कमांडर जनरल सामी सादात को जनरल अलीजाई की जगह स्पेशल ऑपरेशंस कोर का कमांडर नियुक्त किया गया है।

मंगलवार को तालिबान ने फराह और बगलान प्रांतों की राजधानी क्रमश: फराह शहर और पुल-ए-खुमरी पर कब्जा कर लिया। कहा जा रहा है कि तालिबान ने देश के 65 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा कर लिया है।

पश्चिमी प्रांत निमरूज की राजधानी जरंज, समांगन की राजधानी अयबक, ताखर की राजधानी तालोकान, जवज्जान की राजधानी शेबरगन और सर-ए-पुल की राजधानी सर-ए-पुल शहर, फराह की राजधानी फराह शहर पर पहले ही तालिबान का कब्जा हो चुका है। सरकार ने हालांकि कल कहा था कि फराह पर दोबारा सुरक्षा बलों का नियंत्रण हो गया है।