पुरी रथयात्रा : नौ दिन के प्रवास के बाद मंदिर लौटे भगवान जगन्नाथ

After 9 days of rest at Gundicha temple, the Lord returns to the Jagannath temple

पुरी। ओडिशा में प्रसिद्ध रथयात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ अपने बड़े भाई बलभद्र और बहन देवी सुभद्रा के साथ गुंडिचा मंदिर में नौ दिन के प्रवास के बाद रविवार को अपने-अपने रथों में सवार होकर श्री जगन्नाथ मंदिर वापस लौट आए।

‘बहुड़ा यात्रा’ (रथ यात्रा के लौटने) के नाम से चर्चित यह यात्रा निर्धारित समय से तीन घंटा पहले कड़ी सुरक्षा के बीच यहां पहुंच गई। सभी तीनोें रथ मुख्य मंदिर के सिंहद्वार के सामने सूर्यास्त से पहले पहुंच गए। यह विरले ही होता है कि ‘बहुड़ा यात्रा’ के दौरान तीनों रथ समय से पूर्व गंतव्य तक पहुंचे।

लाखों की संख्या में श्रद्धालु भारी बारिश की चेतावनी की परवाह किए बगैर रथ को ग्रांड रोड पर तीन किलोमीटर तक खींचकर लाए। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन, जगन्नाथ मंदिर के सेवकों, पुरी जिला प्रशासन और पुलिसकर्मियों को रथ यात्रा और भगवान जगन्नाथ एवं उनके भाई, बहनों की बहुड़ा यात्रा सफलतापूर्वक संपन्न कराने के लिए धन्यवाद दिया।