सेंसेक्स ने लगाई 732 अंक की छलांग; निफ्टी 238 अंक सुधरा

sensex today: After Market: IT's pain, 280 scrips in the buy zone
sensex today: After Market: IT’s pain, 280 scrips in the buy zone

मुंबई। डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा की मजबूती, कम भाव पर हुई लिवाली और विदेशी बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों से समर्थन पाकर घरेलू शेयर बाजार में निवेशकों ने शुक्रवार को जमकर चांदी काटी।

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 732.43 अंक की छलांग लगाकर 34,733.58 अंक और एनएसई का निफ्टी 237.85 अंक की उछाल के साथ 10,472.50 अंक पर बंद हुआ।

विदेशी बाजारों से मिली तेजी की खबरों के बीच सेंसेक्स 290.77 अंक चढ़कर 34,291.92 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 34,279.78 अंक के दिवस के निचले स्तर तक गया, लेकिन कच्चे तेल की कीमतों में आई गिरावट और दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर के टूटने से भारतीय मुद्रा में लगातार तीसरे दिन तेजी रहने से उत्साहित निवेशकों की लिवाली के दम पर यह 34,808.42 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। अंतत: यह गत दिवस की तुलना में 2.15 फीसदी की तेजी में 34,733.58 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स गुरुवार को 759.74 अंक यानी 2.19 प्रतिशत का गोता लगाकर 11 अप्रैल के बाद के निचले स्तर 34,001.15 अंक बंद हुआ था। सेंसेक्स में टीसीएस को छोड़कर शेष सभी 29 कंपनियों के शेयरों की कीमतों में तेजी दर्ज की गयी। बीएसई में सिर्फ आईटी और टेक समूहों के सूचकांक गिरावट में रहे।

निफ्टी का ग्राफ भी सेंसेक्स की तरह रहा। यह 73.71 अंक चढ़कर 10,331.55 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 10,492.45 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,322.15 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 2.32 फीसदी की तेजी में 10,472.50 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी गुरुवार को 225.45 अंक यानी 2.16 प्रतिशत की गिरावट के साथ 04 अप्रैल के बाद के निचले स्तर 10,234.65 अंक पर बंद हुआ था।

विश्लेषकों के मुताबिक चीन के निर्यात आँकड़े वैश्विक बाजार के लिए राहत भरे रहे। चीन द्वारा आज जारी व्यापार के आँकडों के मुताबिक, सितंबर में उसका निर्यात उम्मीद से अधिक अच्छा रहा। वैश्विक व्यापार युद्ध की चिंताओं के बावजूद यूरोपीय देशों में उसका निर्यात तो बढ़ा ही, अमरीका से भी मांग स्थिर रही।

बाजार विश्लेषकों के मुताबिक मौजूदा हालात में स्थिति ठीक लग रही है, लेकिन अमरीका-चीन तनाव, ईरान पर प्रतिबंध, कच्चे तेल की कीमतों में तेजी और अमरीका में ब्याज दर में बढ़ोतरी जैसे कारक जल्द ही बाजार पर हावी होंगे।

दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों में भी लिवाली का जोर रहा। बीएसई का मिडकैप 2.42 प्रतिशत यानी 337.90 अंक की तेजी में 14,286.22 अंक पर और स्मॉलकैप 260 प्रतिशत यानी 359.02 अंक की छलांग लगाकर 14,159.43 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई में कुल 2,818 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 2,043 में तेजी और 628 में गिरावट रही जबकि 147 कंपनियों के शेयरों के भाव दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अपरिवर्तित बंद हुए।