पीपीपी मोड पर चिकित्सालय, ग्रामीणों ने जताया विरोध, सिरोही के ये गांव शामिल

villagers aitation in alpa of shivganj

सबगुरु न्यूज सिरोही। राजस्थान सरकार द्वारा चिकित्सालयों को पीपीपी मोड पर दिए जाने को लेकर जन आक्रोश भडकने लगा है। शिवगंज तहसील के आल्पा गांव में स्थित पीएचसी को पीपीपी मोड पर संचालित किए जाने के विरोध में इस चिकित्सालय से जुडे आल्पा समेत रोवाडा, जोगापुरा और जोयला के ग्रामीणों ने चिकित्सालय पर प्रदर्शन किया। बाद में इन गांवों के सरपंचों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया।

जिला कलक्टर को दिए ज्ञापन में इन लोगों ने बताया कि आल्पा के पीएचसी को पीपीपी मोड पर दिया जा रहा है जो ग्रामीणों के साथ अन्याय होगा। ग्रामीणों ने आशंका जताई है कि निजी स्टाफ से यहां पर अनियमितताएं भी बढेंगी और ग्रामीणों के साथ नाइंसाफी भी होगी। ग्रामीणों ने पीपी मोड से नहीं हटाने पर भूख हडताल की भी चेतावनी दी है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए आल्पा पीएचसी में पीपीपी मोड पर स्टाफ का डिप्लाॅयमेंट रुकवा दिया गया है।
-क्या है पीपीपी मोड
राज्य सरकार द्वारा राज्य में ग्रामीण चिकित्सालयों की स्थिति को सुधारने के लिए वहां पर स्टाफ का डिप्लाॅमेंट निजी कंपनियों के माध्यम से ठेके पर करने का निर्णय किया है। इसके तहत निजी कंपनियां पीपीपी मोड के लिए चयनित पीएचसी में चिकित्सक से लेकर नर्सिंग और टेक्निकल स्टाफ भी लगाएंगी।

सिरोही जिले में वराडा का पीएचसी पहले ही पीपीपी मोड पर चल रहा है। हाल ही में राज्य सरकार के द्वारा किए गए टेंडर के अनुसार आल्पा, मनादर और बांट गांव के पीएचसी को पीपीपी मोड पर देने के लिए राज्य स्तर पर टेंडर हुए थे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि यहां पर स्टाफ डिप्यूट करने का ठेका लेने वाली कम्पनी को दिसम्बर में ही स्टाफ लगाने थे। इन्हें हमने चिकित्सालय हैडओवर कर दिए हैं।

आल्पा में मंगलवार को स्टाफ डिप्लाॅमेंट किया गया था, इसका ग्रामीणों ने विरोध किया। इस पर इस काम को रोक दिया गया है। सीएमएचओ ने बताया कि जिन चिकित्सालयों को पीपीपी मोड दिया गया है उनका समस्त स्टाफ ठेका लेने वाली कम्पनी ही लगाएगी। सरकार उन्हें खाली पोस्ट्स के अनुसार स्टाफ लगाने पर स्टाॅफ की तनख्वाह देगी। इसमें जनता से कोई राशि नहीं ली जाएगी।
-गुस्सा मंत्री पर
पीपीपी मोड पर चिकित्सालय को देने से नाराज ग्रामीण सिरोही पहुंचे। यहां पर उन्होंने इसका विरोध जताया। इतना ही नहीं स्थानीय विधायक और पशुपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी के खिलाफ भी वह अपने गुस्से को रोक नहीं पाए।

देखें आल्पा में प्रदर्शन की वीडियो न्यूज…