लोकसभा उपचुनाव 2018 : 8 बजे बाद शराब बिक्री हुई तो…

अजमेर। अजमेर संसदीय चुनाव के लिए नियुक्त सामान्य चुनाव पर्यवेक्षक एएम कवड़े ने निर्वाचन से जुड़े अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे भारत निर्वाचन आयोग की आदर्श आचार संहिता का अक्षरशः पालन करें तथा निष्पक्ष एवं शान्तिपूर्ण मतदान सम्पन्न कराने की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।

चुनाव पर्यवेक्षक शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित निर्वाचन से जुड़े पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी आपसी समन्वय से कार्य करें तथा क्षेत्र में नियमित भ्रमण करते हुए क्षेत्र पर नजर रखें। उन्होंने कहा कि पीओ एवं आरओ हैण्डबुक का संधारण आवश्यक रूप से किया जाए। वहीं मतदाताओं को प्रिटिंग स्लिप बीएलओ के माध्यम से प्रत्येक मतदाता तक पहुंचे।

उन्होंने कहा कि वीवीपैट मशीन के बारे में मतदाताओं को पूरी जानकारी स्वीप गतिविधि के माध्यम से उपलब्ध करवायी जानी आवश्यक है। स्वीप के माध्यम से अधिकतम मतदाताओं को मताधिकार के प्रयोग के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए।

स्वीप की गतिविधियां प्रत्येक बूथ स्तर तक पहुंचे यह उत्तरदायित्व प्रत्येक जागरूक नागरिक का है। इसमें राजकीय, गैर सरकारी संगठनों तथा गणमान्य नागरिकों का सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि एमसीएमसी कमेटी समस्त वीडीओ, पैड न्यूज पर निगरानी रखे तथा कम्यूनिकेशन प्लान को प्रभावी बनावें।

बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी गौरव गोयल ने कहा कि जिले में आबकारी की दुकानों को 8 बजे अनिवार्य रूप से बंद करना होगा। आठ बजे पश्चात दुकान खुली पाए जाने पर उसका लाईसेंस चुनाव अवधि के लिए निलम्बित कर दिया जाएगा।

उन्होंने समस्त सहायक रिटर्निंग अधिकारी को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्र में राजनीतिक दलों एवं मीडिया प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित कर उन्हें वीवीपैट की जानकारी दें। उन्होंने कहा कि एपिक कार्ड शत प्रतिशत वितरित हो इसकी भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

उन्होंने बैठक में सम्पूर्ण व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने, आदर्श आचार संहिता की पालना सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मतदान केन्द्र पर समस्त सुविधाएं यथा लाईट, पानी, शौचालय, रैम्प की व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर लें। फ्लाईंग स्कॉवयर्ड क्षेत्र में नियमित रूप से भ्रमण करें।

बैठक में जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह ने सोशल मीडिया पर प्रभावी मॉनिटरिंग की जानकारी दी तथा बताया कि किसी भी गलत मैसेज का तत्काल खण्डन सोशल मीडिया के माध्यम से किया जा रहा है। इसके लिए समस्त स्तरों तक कार्मिकों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। उन्होंने कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए की जा रही व्यवस्थाओं की जानकारी दी।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट कैलाशचंद शर्मा, अबु सूफियान चौहान, अरविंद कुमार सेंगवा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोलाराम एवं समस्त अधिकारी एवं पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।