अजमेर कलक्टर आरती डोगरा बनीं टीचर, बच्चों को पढ़ाया पाठ

Ajmer Collector Arti Dogra with school girls
Ajmer Collector Arti Dogra with school girls

अजमेर। अजमेर में नियुक्ति के बाद से कलक्टर आरती डोगरा की सक्रियता हमेशा ही चर्चा का विषय रही है। गुरुवार को वे एक शिक्षक की भूमिका में भी नजर आईं। बांदनवाड़ा के दो स्कूलों में पहुंचकर उन्होंने बच्चों से पढ़ाई की जानकारी ली साथ ही उन्हें गणित और अन्य विषयों में ज्यादा से ज्यादा मेहनत का पाठ पढ़ाया। बच्चों से कहा कि नियमित अध्ययन और अनुशासित जीवन से ही सफलता मिलेंगी।

कलक्टर डोगरा ने बांदनवाड़ा और पड़ागा गांवों का दौरा कर विभिन्न सरकारी कार्यालयों का निरीक्षण कर कामकाज देखा। कमियों सुधारनें तथा आमजन को अधिक से अधिक राहत पहुंचाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रशासन का काम सरकारी योजनाओं को आम आदमी तक पहुंचाना है।

बांदनवाडा में राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय तथा राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय की कक्षाओं में जाकर विद्यार्थियों से संवाद किया एवं बच्चों को मेहनत एवं लगन से अध्ययन करने की सीख दी। उन्होंने कहा कि गणित, अंग्रेजी एवं अन्य विषय कठिन लग सकते हैं लेकिन नियमित अध्ययन से सफलता पाई जा सकती है। विद्यार्थी अपने शिक्षकों से पूछकर अध्ययन करें तथा नियमित अभ्यास से अपने विषय को मजबूत करें।

उन्होंने दोनों विद्यालयों में शिक्षकों को निर्देश दिए कि परीक्षा परिणाम सुधारने के लिए पूरी मेहनत के साथ विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करें। शाला के संचालन में किसी तरह की दिक्कत आ रही है तो प्रशासन से सम्पर्क करें। उन्होंने उपखण्ड अधिकारी राजेन्द्र सिंह को निर्देश दिए कि वे नियमित रूप से विद्यालयों का निरीक्षण करें एवं जहां भी कमियां पाई जाती है, वहां सुधार करें।

Ajmer Collector Arti Dogra with school girls

स्थानीय स्तर पर हों प्रसव

कलक्टर ने बांदनवाड़ा एवं पड़ांगा में चिकित्सालयों का निरीक्षण कर भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, निशुल्क दवा एवं जांच तथा मरीजों को मिलने वाली अन्य सुविधाओं की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने चिकित्सकों एवं एएनएम को निर्देश दिए कि स्थानीय स्तर पर अधिक से अधिक प्रसव को बढ़ावा दें। जो भी व्यक्ति चिकित्सालय पर उपचार के लिए आता है, उसे योजनाओं का पूरा लाभ प्रदान किया जाए।

उन्होंने बांदनवाड़ा चिकित्सालय में कमियां सुधारने के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए। पड़ांगा उप स्वास्थ्य केन्द्र पर उन्होंने बच्चों के टीकाकरण, प्रसूताओं को दी जाने वाली सुविधा एवं अन्य कामकाज का निरीक्षण किया। यहां पर उपखण्ड अधिकारी राजेन्द्र सिंह ने अपना ब्लड प्रेशर भी चैक कराया।

जिले में आदर्श है पडांगा का अन्नपूर्णा भण्डार

डोगरा ने पड़ांगा में अन्नपूर्णा भण्डार का भी निरीक्षण किया। प्रतिदिन 5-6 हजार की बिक्री करने वाला यह अन्नपूर्णा भण्डार जिले में आदर्श है। कलक्टर ने यहां बिकने वाली ब्रांडेड वस्तुओं को स्वयं देखा एवं विक्रेता से बिक्री की जानकारी ली। विक्रेता अमित तिवारी ने बताया कि यह अन्नपूर्णा भण्डार आसपास के हजारों लोगों के लिए मिनी माॅल की तरह प्रसिद्ध है। पहले जरूरत की वस्तुएं लेने के लिए बांदनवाड़ा जाना पड़ता था। अब लोगो ंको उनकी जरूरत के सभी सामान यही मिल जाते है।

शादी एवं अन्य समारोह में भी क्षेत्रा के लोग यही से खरीददारी करने लगे हैं। जिला कलक्टर ने अन्नपूर्णा भण्डार की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह भण्डार वास्तव में क्षेत्र के लोगों की सभी जरूरतें पूरी कर रहा है। उन्होंने यहां मिनी सहकारी बैंक का भी निरीक्षण किया।

एक सप्ताह में उजियारी ग्राम पंचायत बनेगा बांदनवाड़ा

कलक्टर ने बांदनवाड़ा ग्राम पंचायत का भी निरीक्षण कर व्यवस्थाओ को जांचा। उन्होंने यहां महात्मा गांधी नरेगा के तहत लगाए जाने वाले श्रमिकों की संख्या, विकास कार्यों, न्याय आपके द्वार शिविर, पट्टा वितरण एवं अन्य कामकाज की जानकारी ली। उपखण्ड अधिकारी ने बताया कि गांव में उज्जवला योजना के तहत शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल किए जा चुके हैं। आगामी सात दिनों में बांदनवाड़ा को उजियारी ग्राम पंचायत भी घोषित कर दिया जाएगा।