हिस्ट्रीशीटर से हमदर्दी दिखाना पडा भारी, निपट गए डीएसपी संदीप सारस्वत

अजमेर। नूपुर शर्मा को मारने का ऐलान करने वाले दरगाह थाने के हिस्ट्रीशीटर सलमान चिश्ती को गिरफ्तार कर लाते समय हमदर्दी दिखाना अजमेर पुलिस के दरगाह डीएसपी संदीप सारस्वत को भारी पड़ गया।

पुलिस महानिदेशक के आदेश पर दरगाह सर्किल पुलिस अधिकारी सारस्वत को एपीओ कर जयपुर पुलिस मुख्यालय लगा दिया गया। यह कार्रवाई वीडियो सामने आने के बाद देर रात की गई। सोशल मीडिया पर हिस्ट्रीशीटर की गिरफ्तारी के वक्त का वीडियो वायरल होने को पुलिस के आला अधिकारियों ने गम्भीरता से लिया। प्रकरण की जांच विजिलेंस शाखा को सौंपी गई है।

इस दौरान पुलिस टीम में शामिल एक पुलिसकर्मी की आवाज आ रही है कि ऐसा कौनसा नशा कर रखा था, वीडियो बनाते समय। वहीं, सलमान चिश्ती के पीछे चल रहे डिप्टी संदीप सारस्वत ने कंधे पर हाथ रखकर बोला कि- ऐसे बोलना कि नशे में था। ताकि बच जाए।

इस सम्बन्ध में पुलिस ने भी अपनी सफाई दी। पुलिस उपअधीक्षक संदीप सारस्वत ने कहा कि आरोपी नशे का आदी है। जब पकड़ा तो जोर जोर से रोने लगा। मरने की धमकी देने लगा। ऐसे में उसे समझा बुझाकर लाना पुलिस की जिम्मेदारी थी। थाने तक लाने के लिए उसे दिलासा देने के लिए ऐसा बोला गया।

कार्यवाहक पुलिस महानिदेशक उमेश मिश्रा ने आज बताया कि प्रकरण में आरोपी के विरुद्ध पुख्ता साक्ष्य जुटाकर अभियोजन की सशक्त कार्यवाही की जाएगी। वायरल हुए वीडियो के बारे में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर विकास सांगवान ने बताया कि आरोपी नशा करने का आदी है।

आरोपी पहले भी गिरफ्तारी के समय खुद को नुकसान पंहुचाने का प्रयास कर चुका है। इसके मद्देनजर उसको समझा-बुझाकर कस्टडी में लिया जा रहा था ताकि मौके पर परिस्थिति बिगड़ ना जाए। आरोपी को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है।

खादिम के बिगडे बोल, जो भी नुपुर शर्मा की गर्दन लाएगा, मैं उसे अपना घर दे दूंगा