अजमेर लेखिका संघ की संगोष्ठी संपन, एक मंच पर जुटीं महिला कलमकार

अजमेर। अजमेर में लेखन के क्षेत्र में कार्य कर रहीं महिलाओं को एक मंच पर लाने के लिए अजमेर लेखिका संघ की स्थापना की गई है।

अजमेर लेखिका संघ की संयोजक मधु खंडेलवाल ने बताया कि अजमेर शहर की सभी प्रबुद्ध 35-40 महिलाएं संघ में शामिल हैं। कलम को सक्रिय रखने तथा लेखन व साहित्य को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने की कवायद के साथ ही लेखिका मंच की शुक्रवार को संगोष्ठी आयोजित की गई।

होटल एंबेसी में हुई संगोष्ठी में चर्चा के दौरान संघ के उद्देश्य पर प्रकाश डाला गया और बताया गया कि लेखन के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को सशक्त करना वह ऊंचे पदों पर कार्यरत लेखिकाओं के लुप्त हुनर को जिंदा रखने में संघ की भूमिका रहेगी।

संगोष्ठी में शहर की जानी मानी कलमकार बीना शर्मा, अरुणा माथुर, भारती श्रीवास्तव, अनीता, अंजू, छाया, प्रीति, चेतना, डॉ दीपाली, डॉ रशिका महर्षि, डॉ शकुंतला, किरन रावत, क्षमा, संगीता, शालू, दीपिका, सुमनलता, बीके योगिनी, लवीना, नंदिता चौहान एवं अन्य नवोदित रचनाकारों ने भाग लिया।

संघ ने अपना घर व नारी शाला में पुस्तकालय खोलने व पुस्तकें देने का निर्णय भी संगोष्ठी में लिया गया। आगामी 7 जुलाई को कहानी दिवस पर दयानंद कॉलेज छात्रावास के पर कहानी प्रतियोगिता करवाई जाएगी। सामाजिक सरोकारों से ओतप्रोत लेखिका संघ द्वारा त्रिमासिक संगोष्ठी का भी निर्णय लिया गया।