अजमेर लोकसभा उपचुनाव के लिए सैक्टर अधिकारी नियुक्त, प्रशिक्षण सम्पन्न

Ajmer Lok Sabha by-election 2018 : Sector Officer appointed and training completed

अजमेर। जिला निर्वाचन अधिकारी गौरव गोयल के निर्देशन में अजमेर लोकसभा उपचुनाव के लिए नियुक्त सैक्टर अधिकारियों का प्रशिक्षण मंगलवार को सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण में अधिकारियों को लोकसभा क्षेत्र के समस्याग्रस्त क्षेत्राें की पहचान कर तत्काल कार्यवाही, वीवीपेट मशीन के प्रचार -प्रसार, मतदान केन्द्राें का सघन निरीक्षण एवं मैपिंग के आधार पर कार्यवाही तत्काल शुरू करने के निर्देश दिए गए।

लोकसभा उपचुनाव से जुड़े अधिकारियों को प्रशिक्षण के लिए नियुक्त प्रभारी अधिकारी भगवत सिंह राठौड़ ने सैक्टर अधिकारियों को उनके दायित्वों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सैक्टर अधिकारी तीन तरह की योजना बनाकर काम करेंगे। प्रथम वे मतदान पूर्व, द्वितीय मतदान से एक दिन पहले तथा तृतीय मतदान के दिन की योजना तैयार कर कार्य करेंगे।

राठौड़ ने कहा कि सैक्टर अधिकारी तुरन्त अपना कार्य प्रारम्भ करेंगे। ये अधिकारी प्रक्रिया समाप्ति तक अपने सैक्टर में कार्य करेंगे। अधिकारी सैक्टर का नक्शा, रूट चार्ट, सैक्टर में शामिल अधिसूचित मतदान केन्द्रों की सूची, सैक्टर अधिकारी का पहचान पत्र, मतदान केन्द्रों से संबंधित मतदाता के आंकडें, विभाग की हैल्पलाईन से संबंधित जानकारी, मतदाताओं में जागरूकता हेतु पोस्टल पेम्पलेट्स आदि सामग्री, सैक्टर में भयग्रस्त या असुरक्षित महसूस करने वाले मतदाताओं की पहचान के लिए काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि सैक्टर अधिकारी निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा के दिन से मतदान प्रक्रिया की समाप्ति तक अपने सैक्टर में स्वतंत्र एवं निर्भय होकर मतदान एवं चुनाव प्रबंधन के लिए उत्तरदायी होंगे। सैक्टर आफिसर को मतदान दिवस के कम से कम 7 दिन पूर्व उसी क्षेत्र के लिए सैक्टर मजिस्ट्रेट के रूप में भी नामित किया जायेगा। इन्हें विशेष कार्यपालक मजिस्ट्रेट की शक्तियाँ भी दी जाएगी। सैक्टर अधिकारी सैक्टर मजिस्ट्रेट का कार्य भी करेंगे इसलिए वे पुलिस अधिकारी के साथ भी भ्रमण करेंगे।

राठौड़ ने कहा कि सैक्टर अधिकारी को मतदान केन्द्रों को प्रदर्शित करते हुए नजरी नक्शे के साथ, मतदान केन्द्रों के दूरभाष नम्बरों की सूची तथा निर्वाचन से जुड़े हुए अधिकारियों, पुलिस थानों, जिम्मेदार व्यक्तियों की सूची, असामाजिक तत्वों की सूची इत्यादि की सूचना के साथ सैक्टर प्लान तैयार करना होगा।

सेक्टर अधिकारियों के साथ जिला निर्वाचन अधिकारी तथा पर्यवेक्षक द्वारा बार-बार (साप्ताहिक) रिव्यू बैठकें आयोजित की जाएगी तथा उन्हें आवंटित तथा उनके द्वारा किये गये कार्यो का पर्यवेक्षण किया जाएगा। यह अधिकारी चुनाव प्रचार में निषिद्ध गतिविधियों पर निगरानी एवं रिपोर्टिग करेंगे।

स्वतंत्र एवं स्वच्छ चुनावों के लिए सबसे महत्वपूर्ण एवं आवश्यक तत्व यह है कि प्रत्येक मतदाता बिना किसी रूकावट के और किसी अन्य व्यक्ति द्वारा गलत तरीके से प्रभावित हुए बिना अपने मताधिकार का प्रयोग कर सके और इस प्रकार का वातावरण भी बने।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट शहर अरविंद कुमार सेंगवा, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक भोलाराम सहित जिले के सहायक रिटर्निंग अधिकारी एवं विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों के सैक्टर अधिकारी उपस्थित थे।