ADA अध्यक्ष पद को लेकर माली-सैनी समाज राजनीतिक रूप से हुआ एकजुट


अजमेर।
अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष पद को लेकर अजमेर में गरमाए राजनीतिक माहौल में अब सामाजिक समीकरण भारी पडते नजर आ रहे हैं। बुधवार को माली सैनी समाज की मनुहार गार्डन में हुई बैठक इसी मसले पर केन्द्रीत रही। यह पहला मौका रहा जब समस्त माली समाज राजनीतिक एकजुटता के साथ एडीए अध्यक्ष पद को लेकर लामबंद हो गया।

जिले भर से जुटे माली समाज की विभिन्न संस्थाओं, समाजसेवियों, गणमान्यजनों, पंच पटेलों की अगुवाई में हुई बैठक में सभी ने एक स्वर में कहा कि समाज के राजनीतिक क्षेत्र में बरसों से सक्रिय महेश चौहान की एडीए अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी को पूरा समर्थन है। चौहान कांग्रेस के पदाधिकारी हैं इस नाते कांग्रेस संगठन तथा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक समाज की बात दमदार तरीके से पहुंचाना हमारा कर्तव्य बनता है।

माली महासभा अजमेर के अध्यक्ष एवं निवर्तमान महापौर धर्मेन्द्र गहलोत ने कहा कि राजनीति में कोई भी पद बिना मांगे नहीं मिलता। समाज एकजुट होकर महेश चौहान के लिए मांग रहा है। प्रदेश में सत्तारूढ कांग्रेस सरकार को अब फैसला लेना है कि माली समाज सम्मान रखना है अथवा नहीं। माली समाज शैक्षणिक, राजनीतिक तथा राजनीतिक स्तर पर मजबूत है। समाज में नेतृत्व करने की पूरी क्षमता है।

समाज के भामाशाह त्रिलोकचंद इंदौरा ने कहा कि माली समाज के किसी व्यक्ति को अजमेर में कभी जिला स्तर पर चुनाव लडने का मौका नहीं दिया गया। फिर भी समाज ने कोई नाराजगी नहीं जताई। अब सब्र की इंतेहा हो गई है। राजनीति में हार जीत के फैसले में अहम भूमिका निभाने वाले माली समाज ने जिद पकडी है। यह जिद एडीए अध्यक्ष पद मिलने तक रहेगी।

समाज के वरिष्ठ नेता प्रेमराज सोलंकी ने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद हमारे समाज से हैं। ऐसे में पूरा भरोसा है कि वे हमारी मांग को गंभीरता से लेंगे और अजमेर के माली समाज के कांग्रेस से जुडे महेश चौहान को एडीए की जिम्मेदारी सौंपकर समूचे माली समाज को उपकृत करेंगे।

मालियान शिक्षा समिति के अध्यक्ष हनुमान प्रसाद कछावा ने समाज की राजनीतिक क्षेत्र में बढी सक्रियता को लेकर समस्त समाजबंधुओं का अभार जताया साथ ही कहा कि समाज को राजनीतिक नियुक्ति वाले पदों पर नेतृत्व करने का अवसर मिलना ही चाहिए।

निर्दलीय पार्षद नरेन्द्र तूनवाल ने कहा कि समाजहित में मांग करना हमारा हक बनता है। अधिकार की लडाई है इसमें समाज की एकजुटता तथा समर्थन से महेश चौहान का हौसला बढा है। पार्षद रजनीश चौहान ने कहा कि हम ज्योतिबा फूले के सिपाही है, एक बार लक्ष्य को लेकर निकल पडे है तो सफलता हमारे कदम चूमेगी।

गढी मालियान श्मशान समिति के अध्यक्ष नेमीचंद बबेरवाल ने कहा कि माली समाज को वोट बैंक समझना अब नहीं चलने वाला। राजनीतिक पार्टियों को बदले में समाज को देना ही पडेगा।

सामाजिक कार्यकर्ता संदीप तंवर, अधिवक्ता धर्मेन्द्र चौहान, सामूहिक विवाह सम्मेलन के अध्यक्ष घीसू लाल गढवाल, सुनीता चौहान, माली सैनी संस्थान अध्यक्ष राजेश भाटी, मालियान धर्मशाला सुंदर विलास के अध्यक्ष चेतन सैनी, राजस्थान माली महासभा के प्रदेश सचिव हेमराज सिसोदिया, सावित्री बाई फुले जाग्रति संस्थान की अध्यक्ष सुनीता चौहान ने भी संबोधित किया।

समाज की बैठक में ये गणमान्यजन भी रहे मौजूद

इस अवसर पर गुलाबबाडी मालियान पंचायत के अध्यक्ष सुंदर टांक, क्षत्रिय फूल मालियान शीतला माता मंदिर के अध्यक्ष सुरेश चौहान, पुष्पा सैनी, पार्षद भावना चौहान, निर्दलीय पार्षद बीना टांक, पूर्व पार्षद गणेश चौहान, पूर्व पार्षद विजय गहलोत, पूर्व पार्षद बीना टांक, पार्षद खुश्बू सांखला, पार्षद रिंकू जादम, ममता चौहान, वर्षा मालाकार, अनिल मारोठिया, गौरव टांक, धर्मराज गहलोत, रेखा सैनी, रेणु चौहान, श्यामा चौहान, हेमन्द्र सिंगोदिया, आनंद प्रकाश मामा, योगेश चौहान, धम्रेन्द्र टांक, जितेन्द्र मारोठिया, यशोनंदन चौहान, हनीष मारोठिया, सेवा राम चौहान, दिलीप गढवाल, रमेश गढवाल, सोहन तूनवाल, भागचंद सांखला, भंवरलाल सतरावला, बिन्नू मौर्य, माखनलाल मारोठिया, सुशीला चौहान, रेखा चौहान, इंदु अजमेरा, सीता सैनी, ममता चौहान, मधु उबाना, विजय लक्ष्मी, एडवोकेट बबीता टांक, वीर सिंह चौहान, मदन कछावा, राजकिशोर सांखला समेत बडी संख्या में समाज के गणमान्यजन मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री से मिलेगा माली समाज का शिष्टमंडल

पूर्व पार्षद महेन्द्र जादम ने बताया कि आगामी रूपरेखा तक करने के लिए वरिष्ठ समाज बंधुओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है। समाज की विभिन्न संस्थाओं से जुडे लोगों का प्र​तिनिधि मंडल जयपुर जाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलेगा तथा एडीए अध्यक्ष पद को लेकर उन्हें समाज की भावनाओं से अवगत कराएगा। समाज की ओर से इस बाबत मीडिया को जानकारी देने के लिए जल्द ही प्रेसवार्ता का आयोजन रखा जाएगा।

शिक्षा और सामाजिक विषय पर लाए गए प्रस्ताव

समस्त समाजबंधुओं ने इस बात पर प्रसन्नता जताई की शिक्षा के क्षेत्र में समाज निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर है। हाल ही में आरएएस में समाज के 24 प्रतिभागियों का चयन हुआ है। सावित्री बाई फुले के महिला शिक्षा को लेकर जगाई गई अलख को समाज मशाल का रूप दे चुका है। सामाज में जागृति का परिणाम है कि सामाजिक कुरीतियों का अंत हो रहा है। कोविड काल में माता पिता को खो देने वाले बच्चों का डाटा बेस तैयार करने तथा उन्हें सहयोग प्रदान करने का भी प्रस्ताव सर्व सम्मति से पारित किया गया।

ADA अध्यक्ष पद की दौड में शामिल महेश चौहान को केकडी और किशनगढ से भी समर्थन

एडीए अध्यक्ष पद के लिए माली समाज लामबंद, महेश चौहान के नाम पर सहमति