अजमेर में 5 करोड रुपए की लागत से बनेंगे 10 स्मार्ट टॉयलेट

Ajmer nagar nigam to build 10 smart toilets at cost of Rs 5 crore

अजमेर। स्मार्ट सिटी बनने जा रहे अजमेर में अब सार्वजनिक शौचालय भी स्मार्ट होंगे। शहर में बनने वाले इन आत्याधुनिक शौचालयों में एसी, बाथरूम, सैनेटरी नैपकिन जैसी सुविधाएं भी होगी।

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी, महापौर धर्मेन्द्र गहलोत ने शुक्रवार को इन स्मार्ट और आधुनिक शौचालयों के निर्माण का शुभारंभ किया। इस अवसर पर देवनानी ने कहा कि स्वच्छता और स्वास्थ्य सर्वोपरि है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे द्वारा प्रदेश में स्वास्थ्य एवं सफाई के प्रति विशेष ध्यान दिया जा रहा है। हम सब भी सरकार के इन प्रयासों में अपना योगदान दें।

महापौर धर्मेन्द्र गहलोत ने बताया कि राजस्थान सरकार द्वारा अत्याधुनिक शौचालयों के निर्माण कार्य के तहत अजमेर नगर निगम द्वारा 6 अत्याधुनिक (मॉडर्न) शौचालयों का निर्माण किया जाना है।

यह सभी शौचालय लगभग 1100 वर्ग मीटर क्षेत्र में बनाए जाने है। जिसके अन्तर्गत प्रत्येक शौचालय में 12 डब्ल्यू .सी विकलांगों हेतु अलग से टॉयलेट, सभी टॉयलेट एसी युक्त, मॉडर्न बाथरूम, काउंटर वाशबेसन सहित, लेडिज टॉयलेट में सैनेटरी नैपकीन मशीन एवं शौचालयों के समीप कुछ जगह एटीएम के लिए रिक्त रखी जाएगी।

साथ ही साथ पीने के पानी हेतु वॉटर कूलर लगाए जाएंगे। सभी शौचालयों की छत पर सोलर पैनल लगाए जाएंगे। उक्त निर्माण करने वाला ठेकेदार समस्त शौचालयों की 5 साल तक देखरेख करेगा। निगम क्षेत्र में बनाए जाने वाले 10 अत्याधुनिक शौचालयों की लागत लगभग 5 करोड़ रूपए आएगी।

निगम द्वारा गांधी भवन के पीछे (महिलाओं के लिए), रोडवेज बस स्टैण्ड, जिला कलक्ट्रेट परिसर व त्रिपोलिया गेट के पास शौचालय का निर्माण किया जा रहा है।

इस अवसर पर आयुक्त हिमांशु गुप्ता, उपायुक्त ज्योति ककवानी, गजेन्द्र सिंह रलावता, अधीक्षण अभियंता श्रवण कुमार वर्मा, स्वास्थ अधिकारी रूपाराम चौधरी सहित अनेक अधिकारी एवं पार्षद धर्मेन्द्र शर्मा, अनिश मोयल, अमाद चिश्ती, बलराम हरलानी, प्रकाश मेहरा एवं पूर्व पार्षद भारती श्रीवास्तव सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

इसी तरह 24 मई को चन्द्रवरदायी स्टेडियम एवं किसान भवन के पास अत्याधुनिक शौचालयों का शिलान्यास महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल, महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, आयुक्त हिमांशु गुप्ता के कर कमलों द्वारा किया गया।