शिक्षामंत्री वासुदेव देवनानी झुके, भारतीय मजदूर संघ की बडी जीत

अजमेर। सर्वशिक्षा अभियान कर्मचारी संघ (लोक जुम्बिश) कार्मिकों का चार दिन से चल रहा क्रमिक अनशन रविवार को प्रमुख चार मांगों में से दो तत्काल पूरी हो जाने के बाद स्थगित कर दिया गया, खुले आकाश तले बारिश में भी क्रमिक अनशन पर बैठे कार्मिकों में खुशी की लहर दौड गई।

भारतीय मजदूर संघ के बैनर तले 20 सितंबर से अजमेर कलेक्ट्रेट के मुख्य गेट पर प्रदेशभर से आए सर्वशिक्षा अभियान कर्मचारी कार्मिक डटे हुए थे। दो दिन से बारिश के बीच भी वे टस से मस नहीं हुए। खासकर रात भी धरना स्थल पर ही काटीं। अनशनकारियों में महिला कार्मियों की संख्या अधिक थीं, वे भी धरने में कंधे से कंधा मिलाकर आंदोलन से पीछे नहीं हटीं।

तीन दिन तक चली कशमकश, चुनावी साल और भारतीय मजदूर संघ के दबाव के बीच चौथे दिन आखिरकार शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी को झुकना पडा और उन्होंने क्रमिक अनशन कर रहे कार्मिकों के शिष्टमंडल को अपने निवास पर ही वार्ता के लिए बुलावा भेजा।

भामसं के शिष्टमंडल को आदेश की प्रति सौंपते शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी।

भामसं से मूलसिंह पंवार, भोलानाथ आचार्य, सर्व शिक्षा अभियान कर्मचारी संघ के प्रदेश महामंत्री बनवारी लाल मालव, प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष सरोज शर्मा, ज्ञानेन्द्र सिंह, राजेश वर्मा, जिला महामंत्री राकेश शर्मा एवं पर्बतसिंह राजपुरोहित शिक्षामंत्री के घर पहुंचे तथा कर्मचारियों का पक्ष पुरजोर तरीके से रखा।

कर्मचारियों की मांगों पर सहमति जताते हुए देवनानी ने ग्रेच्युटी, मेडिकल सुविधा, सीएल अवकाश 15 से बढाकर 20 दिन करने की मांग संबंधी आदेश उन्हें सौंप दिए साथ ही पीएल एवं मेडिकल अवकाश तथा 7वें वेतन आयोग के अनुरूप वेतन बढोतरी की मांग के बारे में सोमवार को आवश्यक कार्रवाई शुरू करने का भरोसा दिलाया।

आयुक्त, राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद सह विशिष्ठ शासन सचिव ने जारी आदेश में कहा है कि पूर्व लोक जुम्बिश कार्मिकों को वित्त विभाग के परिपत्र दिनांक 27 जून 2014 के अनुसार सुविधाएं प्रदान कीजाएंगी। प्रस्तावित सुविधाओं पर होने वाला व्ययभार सर्व शिक्षा अभियान के अन्तर्गत प्राप्त एमएमई की राशि से ही वहन किया जाएगा। इसके साथ ही पूर्व में देय आकस्मिक अवकाश 15 दिवस के स्थान पर एक कलेंडर वर्ष में अधिकतम 20 दिवस का अवकाश देय होगा। ग्रेच्युटी अधिनियम 1972 के तहत देय राशि का भुगतान किया जाएगा। इसके अलावा दुर्घटना बीमा योजना के प्रीमियम का वार्षिक भुगतान स्वयं कार्मिक द्वारा वहन किया जाएगा।

इस अवसर पर तुलसीराम, श्रीराम मीणा, प्रभुसिंह, उम्मेदराज, धनराज गोचर, जमीला शेख, पुष्पा कुमावत, कमलेश कंवर, चुन्नीलाल अहीर, किरण गुर्जर, संतोष पारिक, वंदना मिश्रा, गायत्री पारिक, पुष्पा राठौड, राजेद्र शर्मा, रामधन कोठारी, धारेश्वर सिंह चौधरी, सुशीला दाधीच, ओमप्रकाश, पुष्पा सोनी, रेखा गुप्ता समेत बडी संख्या में कार्मिक उपस्थित रहे। इससे पहले सुबह भामसं के कार्यकर्ताओं ने पुष्कर में ब्रह्मा मंदिर में दर्शन कर अपनी मांगे पूरी होने की मन्नत मांगी।