अखिलेश यादव को जनहित योजनाओं के धन के बेजा इस्तेमाल करने का अनुभव

अखिलेश यादव को जनहित योजनाओं के धन के बेजा इस्तेमाल करने का अनुभव
अखिलेश यादव को जनहित योजनाओं के धन के बेजा इस्तेमाल करने का अनुभव

बलिया । देश में नगदी की किल्लत के लिये भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओ को जिम्मेदार बताने के समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के बयान पर पलटवार करते हुये उत्तर प्रदेश सरकार के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज कहा कि श्री यादव को जनहित की योजनाओं के लिये आवंटित धन के बेजा इस्तेमाल करने का खासा अनुभव है।

श्री शाही ने यहां पत्रकारों से कहा श्री यादव कहते हैं कि भाजपा नेताओं ने एटीएम खाली किये गये। उन्हे इसका तकनीकी ज्ञान है कि जनता की बेहतरी के लिए बनाई गई योजनाओं का धन कैसे खाली किया जाता है। वास्तव में कृषि व्यवस्था और किसानो की बर्बादी के लिए उत्तर प्रदेश मे 15 सालों तक राज करने वाली पिता पुत्र की सरकार जिम्मेदार है। कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार 2020 तक किसानो को उनकी उपज का दोगुना दाम दिलाने के लिए कटिबद्ध है। खेती को लाभकारी बनाने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ की कृषि इकाई के सहयोग से 52 करोड़ रूपये की परियोजना शुरू की जा रही है। इसमे प्रदेश को कृषि जलवायु के आधार पर नौ जोन मे बांट कर 10 हजार हैक्टेयर क्षेत्र मे मोटा अनाज पैदा कर किसानो के लिए खेती को लाभकारी बनाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने के पक्ष मे है। पूर्व की सरकारों ने खेती किसानी की बेहतरी के लिए कोई काम नही किया। मौजूदा सरकार ने प्रदेश की सिंचाई व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए पांच बड़ी नहर परियोजना तैयार किया है और बजट मे इसके लिए 15 हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की है। कृषिमंत्री ने कहा कि दो मई को किसान कल्याण दिवस प्रदेश के 827 विकास खण्डों मे मनाया जाएगा। इसमे किसान कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। कार्यशाला मे खेती मे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले किसानो को सम्मानित किया जाएगा।