अंबेडकर जयंती : अजमेर में अम्बेडकर भवन का शिलान्यास

अजमेर। बाबा साहब डाॅ भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर चन्द्रवरदायी नगर में शनिवार को अम्बेडकर भवन का शिलान्यास किया गया। शिलान्यास समारोह में शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि समाज को एक जुट रखने के लिए अम्बेडकर के आदर्शो को अपनाना होगा। महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल कहा कि सामाजिक समरसता बनाए रखना प्रत्येक नागरिक का उत्तरदायित्व है।

देवनानी ने कहा कि अंग्रेजों के आगमन से भारत में छूआछूत का जन्म हुआ। इस तरह से समाज का बटंना पीड़ादायक है। बाबा साहब ने अनेकों अवरोधों के बावजूद सबके सहयोग से उच्च कोटि का अध्ययन किया। उनका सम्पूर्ण जीवन देश और समाज के प्रति समर्पित था।

वे संविधान के शिल्पकार तथा गरीबों एवं दलितों के मसीहा थे। उन्होंने देश को एक रखने के लिए जीवन भर प्रयत्न किया। देश को आगे रखकर ही अम्बेडकर ने स्वदेशी धर्म की शिक्षा ली। उन्होंने कहा कि बाबा साहब के कार्यो के सम्मान देने के लिए प्रधानमंत्राी अटल बिहारी वाजपेयी के समय भारत रत्न प्रदान किया गया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद कक्ष में अम्बेडकर का तेल चित्र स्थापित करवाया। राजस्थान के 191 शहरी निकायों में अम्बेडकर भवनों का शिलान्यास हुआ। डाॅ. अम्बेडकर ने जातिवाद का हमेशा विरोध किया। समाज को आगे बढ़ाने तथा एकजुट रखने के लिए उनके आर्दशों को अपनाना होगा। उनके आदर्शो पर चलकर समाज ने नई जागृति और उंचाईया प्राप्त की है। समाज को विभाजित करने वाले तत्वों को भारतीय समाज पहचानता है। यह समाज इस तरह के असमाजिक तत्वों को बहकावें में नहीं आएगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा पाठ्यपुस्तकों में अम्बेडकर के आदर्शों को पढ़ाया जा रहा है। आरक्षण आवश्यक है। इसके द्वारा समाज में समरसता उत्पन्न हो रही है। सरकार ने महिला एवं बाल विकास मंत्री अनीता भदेल ने कहा कि सामाजिक समरसता बनाएं रखना प्रत्येक नागरिक का उत्तररदायित्व है।

वर्तमान सरकार समाज के ताने बाने को मजबूत रखने के लिए प्रत्येक स्तर पर कार्य कर रही है। केन्द्र एवं राज्य सरकार अम्बेडकर के दर्शन के आधार पर अपने फैसले कर रही है। डाॅ. अम्बेडकर ने अर्थशास्त्र के विषय पर पर्याप्त लेखन किया है। उन्होंने भ्रष्टाचार मुक्त, स्वच्छ अर्थव्यवस्था के लिए समय समय पर मुद्रा बदलने का समर्थन किया। इसी विचार को आगे बढ़ाते हुए केन्द्र सरकार द्वारा नोटबंदी करके भ्रष्टाचार की जड़ पर प्रहार किया।

उन्होंने कहा कि अम्बेडकर ने अर्थ व्यवस्था के संचालक के लिए एक केन्द्रीय संस्था की परिकल्पना की। इसी परिकल्पना का साकार रूप भारतीय रिर्जव बैंक रूप में सामने आया। अम्बेडकर द्वारा रचा गया संविधान आज भी सर्वोत्तम है। उन्होंने आचरण के माध्यम से स्वच्छ राजनीति की प्रेरणा दी। संसद में उनके द्वारा रखा प्रस्ताव गिर जाने से संसद सदस्यता से इस्तीफा देकर अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया।

उन्होंने कहा कि अम्बेडकर ने देश को हमेशा जाति से पहले रखा। वर्तमान सरकार भी उन्हीं के आदर्शो को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है। सरकार ने अम्बेडकर से जुड़े स्थलों को पंचतीर्थ के रूप में विकसित किया है। प्रत्येक देश भक्त को इन स्थानों की यात्रा अवश्य करनी चाहिए।

राज्य सरकार ने वर्तमान बजट में की गई घोषणा को बहुत ही कम समय में फलीभूत करके समस्त नगरीय निकायों में एक साथ अम्बेडकर भवनों का शिलान्यास किया है। यह सरकार अम्बेडकर के आदर्शो के आधार पर देश एवं राज्य को आगे बढ़ाने के लिए कटिबद्ध है।

भदेल ने मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि यह अम्बेडकर भवन 96 लाख की राषि से निर्मित होगा। इससे पिछड़े वर्ग के साथ साथ समस्त नागरिकों को भी लाभ मिलेगा। सरकार द्वारा 2.50 लाख रूपये से कम आमदनी वाले अभिभावकों के बच्चों को सरकारी नौकरी के लिए आवेदन शुल्क में छूट दी जाएगी।

अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शिवशंकर हेड़ा ने कहा कि प्राधिकरण द्वारा एक हजार 106 वर्ग मीटर का क्षेत्रा अम्बेडकर भवन के लिए उपलब्ध करवाया गया है। इस पर 530 वर्गमीटर में भवन निर्मित होगा। अम्बेडकर ने मानव मात्रा को उसके अधिकार दिलाने के लिए प्रयास किया। वर्तमान सरकार की नीतियां समाज की प्रत्येक व्यक्ति को लाभान्वित करने की है।

असामाजिक तत्व अम्बेडकर के द्वारा एक जुट किए समाज की समरसता को खत्म करने का प्रयास कर रहे है। वर्तमान का जागरूक समाज इनके बहकावें में नही आएगा। समाज एक शरीर की तरह है। इसके एक अंग में पीड़ा होने पर वेदना पूरे समाज को होती है।

पूर्व श्रीकिशन सोनगरा ने कहा कि अम्बेडकर एक महामानव थे। जिन्होंने देश को नई दिशा दी। उन्होंने सर्वप्रथम पराधीनता एवं रूढ़ीवादिता से समाज में पैदा हुई विकरति को समझा । देश की तरक्की के लिए पिछड़ों के साथ समानता एवं ममता का व्यवहार करना आवश्यक है।

महात्मा गांधी एवं अम्बेडकर ने देश में सामाजिक चेतना और नव जागरण पैदा किया। उन्होंने विपरित परिस्थितियों उच्च मुकाम हासिल किया। शिक्षा प्राप्त कर सुविधायुक्त जीवन के स्थान पर संघर्ष युक्त समाज सेवा का मार्ग चुना। उन्होंने अंहिसा विश्वास रखा।

जिला प्रमुख वंदना नोगिया ने कहा कि डाॅ. अम्बेडकर सम्पूर्ण समाज के प्रेरणा स्त्रोत है। समाज को बांटने वालों से दूर कर अम्बेडकर के दिखाए रास्ते पर चलने का आव्हान किया। अरविन्द यादव ने कहा कि बाबा साहब ने हिन्दू समाज को आगे बढ़ाने का कार्य किया।

इस अवसर पर नगर निगम के महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, बयाना के पूर्व सांसद रामस्वरूप कोली, जिला कलक्टर गौरव गोयल, पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह, नगर निगम आयुक्त हिमांशु गुप्ता, अजमेर विकास प्राधिकरण के सचिव हेमन्त स्वरूप माथुर सहित कंवल प्रकाश किशनानी, लक्ष्मी शर्मा, जितेन्द्र चैहान, जय किशन पारवानी एवं बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।