शाह-नड्डा ने किया एम्स में ‘सेवा सप्ताह’ अभियान का शुभारंभ

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रसाद नड्डा ने शनिवार को ‘सेवा सप्ताह’ अभियान का शुभारंभ किया।

सुबह करीब आठ बजे राजधानी के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में शाह एवं नड्डा ने ‘सेवा सप्ताह’ अभियान की शुरुआत करते हुए अस्पताल के सामान्य वार्डों में जाकर मरीज़ों को फल वितरित किए और उनकी कुशलक्षेम पूछी। दोनों नेताओं ने अस्पताल के गलियारों में झाड़ू भी लगाई तथा एम्स परिसर में अंदर एवं बाहर सफाई करने वाले कर्मचारियों से भी भेंट की।

इस मौके पर राज्यसभा सांसद विजय गोयल और एम्स के निदेशक डॉॅ. रणदीप गुलेरिया भी उपस्थित थे। शाह ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री ने पूरा जीवन राष्ट्र की सेवा और गरीबों के लिए समर्पित कर दिया है इसलिए यह उचित समय है कि हम उनके जन्म दिन का सप्ताह ‘सेवा सप्ताह’ के रुप में मनाएं। देश भर में भाजपा कार्यकर्ता इसका शुभारंभ करेंगे।

भाजपा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर के अवसर पर सेवा सप्ताह मना रही है जो 20 सितंबर तक चलेगा। अभियान की निगरानी के लिए केंद्रीय स्तर पर एक समिति का गठन किया गया है जिसके संयोजक अविनाश राय खन्ना हैं। समिति के अन्य सदस्य, सांसद एवं केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, राष्ट्रीय सचिव सुधा यादव एवं सुनील देवधर हैं। मोदी 17 सितंबर को 69 वर्ष के हो जाएंगे।

यह ‘सेवा सप्ताह’ पूरे देश भर में चलाया जाएगा जिसके तहत रक्तदान शिविर, स्वास्थ्य परिक्षण शिविर, आँखों की जांच एवं ऑपरेशन कैंप, अस्पतालों, अनाथालयों एवं वृद्धाश्रमों में जाकर मरीजों एवं जरुरतमंदों को फल वितरण आदि किया जाएगा। ‘सेवा सप्ताह’ के दौरान तीन संकल्प लिए जाएंगे – स्वच्छता अभियान, एकल प्रयोग वाली प्लास्टिक का निषेध तथा जल संचय।

पार्टी के सभी सांसद, विधायक, बोर्ड एवं निगमों के अध्यक्ष/उपाध्यक्ष, ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के स्थानीय प्रशासन में चुने गए प्रतिनिधि, ग्राम पंचायत अध्यक्ष इत्यादि अपने क्षेत्र के कम से कम एक उच्चविद्यालय या महाविद्यालय में एक बार प्रयोग होने वाले प्लास्टिक वस्तुओं का उपयोग समाप्त करने एवं जल सरंक्षण एवं संवर्धन को प्रोत्साहित करने का अभियान चलाएंगे। इसके अतिरिक्त, कुछ उच्च संस्थानों एवं दानदाताओं को 10 से 100 दिव्यांगों की शिक्षा एवं पालन पोषण हेतु आग्रह किया जाएगा।