x

विज्ञान और आध्यात्मिकता के बीच संबंध का खुलासा करने के लिए अमेरिकी रिसर्चर का जयपुर दौरा

American Researcher Dr. Amit Goswami is coming to Jaipur.

जयपुर । पिछले महीने नई दिल्ली में क्वांटम साइंस और काॅन्शस लीडरशिप पर एक वर्ष का पाठ्यक्रम सफलतापूर्वक लॉन्च करने के बाद, अमेरिका स्थित क्वांटम भौतिक विज्ञानी और काॅन्शसनेस रिसर्चर डॉ अमित गोस्वामी तीन दिवसीय कार्यशाला के लिए जयपुर आ रहे हैं।

भारत में एक ट्रांसफाॅर्मेशनल लीडरशिप यूनिवर्सिटी कायम करने से संबंधित खोज के सिलसिले में यह कार्यशाला 21 से 23 सितंबर 2018 के दौरान आयोजित की जाएगी। क्वांटम विश्वालयम में सामुदायिक आधार पर निवास करने की सुविधा होगी और जो ‘‘क्वांटम वल्र्डव्यू‘‘ के सिद्धांतों और ढांचे के आधार पर विशेष रूप से हेल्थकेयर और वेलनैस तथा व्यापार और अर्थशास्त्र की दुनिया के लीडर्स के लिए अनुभवी शिक्षा और जीवन के लिए एक आदर्श स्थान प्रदान करेगा।

जयुपर में कार्यशाला की व्यवस्था संबंधी जानकारी देते हुए क्वांटम एक्टिविज्म विलेज फाउंडेशन के सीईओ श्री दिनेश कुकरेजा ने कहा, ‘‘हम 21-23 सितंबर, 2018 के दौरान जयपुर में क्वांटम एक्टिविज्म वर्कशाॅप आयोजित करने जा रहे हैं जहां प्रतिभागी क्वांटम भौतिकी के परिवर्तनीय पहलुओं का पता लगाएंगे। हमारी वेबसाइट ूूूण्ुनंदजनउंबजपअपेउण्वतह पर इस बारे में और अधिक जानकारी उपलब्ध है।‘‘

एकीकृत चिकित्सा और परिवर्तनकारी विशेषज्ञ डॉ वैलेंटाइना ओनिसर जो दुनिया भर में डॉ अमित गोस्वामी के साथ क्वांटम एक्टिविज्म सिखाती हैं, इस कार्यशाला में शामिल लोगों के लिए आत्म-परिवर्तन के एक हिस्से के रूप में क्वांटम उपचार सहित व्यावहारिक अनुभवी पहलुओं को पढ़ाएंगी।

क्वांटम विश्वालयम के प्रोजेक्ट डायरेक्टर श्री अमित खंडलेवाल कहते हैं, ‘‘ दुनिया भर में क्वांटम एक्टिविज्म मूवमेंट के संस्थापक डॉ अमित गोस्वामी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसित भौतिक विज्ञानी और दूरदर्शी हैं, जिन्होंने एक दशक पहले संयुक्त राज्य अमेरिका में अपने क्वांटम एक्टिविज्म मूवमेंट के विस्तार के रूप में क्वांटम एक्टिविज्म विलेज फाउंडेशन के निर्माण के लिए प्रेरित किया था। हम वास्तव में खुश हैं और जयपुर में उनका स्वागत करने की राह देख रहे हैं।‘‘

डायरेक्टर- रिसर्च एंड डेवलपमेंट श्री अनिल सिन्हा, जो आईआईटी, कानपुर के पूर्व छात्र हैं, एक दशक से अधिक समय तक क्वांटम वाइटल एनर्जी के क्षेत्र में कई पथप्रवर्तक परियोजनाओं के जरिए शामिल हैं। वे एक ऐसे प्रचारक हैं जो लोगों और समुदायों के लिए समग्र स्वास्थ्य, कल्याण और व्यक्तिगत अनुकूलन के लिए क्वांटम साइंस एप्लीकेशन का प्रचार करते हंै। विश्वालयम ने पिछले महीने नई दिल्ली में क्वांटम साइंस और काॅन्शस लीडरशिप में एक वर्षीय सर्टिफिकेशन पाठ्यक्रम पहले ही शुरू कर दिया है।

विश्वालयम के शैक्षिक कार्यक्रम का लक्ष्य क्वांटम विज्ञान और चेतना पर प्रामाणिक वैज्ञानिक अनुसंधान के सहयोग के साथ प्राचीन ज्ञान के मूलभूत सिद्धांतों के आधार पर समग्र और परिवर्तनकारी प्रणाली को विकसित करना है। विश्वालयम में पिरामिड मेडिटेशन सेंटर, शैक्षणिक केंद्र, क्वांटम इंटीग्रेटिव हेल्थकेयर, आर्गेनिक फार्म, क्वांटम विलेज, सामुदायिक रसोई और क्वांटम उद्यमिता विकास केंद्र होगा, जिसका लक्ष्य भावनात्मक रूप से तनावग्रस्त और आज की पीढ़ी के जीवन से असंतोष को दूर करने में मदद करना होगा। साथ ही, इसका मकसद क्वांटम सिद्धांतों के अनुसार पेशेवरों और लीडर्स की एक नई खेप को संरक्षण प्रदान करते हुए उन्हें सामने आने का अवसर प्रदान करता है। ये पेशेवर एक खुशहाल और अधिक बुद्धिमान और उद्देश्यपूर्ण समाज बनाने में मदद करेंगे।

क्वांटम एक्टिविज्म विश्वालयम के शैक्षिक कार्यक्रम उन सभी के लिए खुला है, जो क्वांटम विज्ञान/भौतिकी और आध्यात्मिकता, समग्र स्वास्थ्य, ऊर्जा चिकित्सा, पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा, अंतज्र्ञान, आध्यात्मिक उद्यमिता, कला, संगीत, मनोविज्ञान और अकादमिक अध्ययन और अनुसंधान के माध्यम से मानव जाति के सुधार में दिलचस्पी रखते हैं। कुल मिलाकर यह विद्यार्थियों, लाइसेंस प्राप्त पेशेवरों, चिकित्सा विशेषज्ञों, उद्यमियों और समग्र, वैकल्पिक स्वास्थ्य देखभाल चिकित्सकों और एक करियर के रूप में एकीकृत समग्र स्वास्थ्य के अध्ययन को आगे बढ़ाने या अपने मौजूदा करियर के पूरक के तौर पर अपनाने के इच्छुक लोगों को लाभ पहुंचा सकता है।

पिछला लेखCARHP करेगा कार खरीदना और बेचना आसान
अगला लेख52 दिव्यांग व निर्धन जोड़ों को मिली खुशियों की सौगात
© Y2KSOLUTION