x

अब Wikipedia भी उगल रहा है सुपर-30 के आनंद कुमार का गुनाह

बिहार : सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार के गुनाहों का घड़ा था लगभग भर ही चुका था और उनका जो एक नकली चेहरा समाज से छिपा था उसे सामने लाने के लिए खुद उनके द्वारा पढ़ाए गए छात्रों ने ही उनकी करतूत कैमरे के सामने आकर उगंली जिसके बाद से आनंद कुमार का चेहरा दुनिया के सामने बेनकाब हो गया लेकिन अब आनंद कुमार की गुनाहों की दास्तां wikipedia भी उगल रहा है।

Wikipedia पर जुड़ गया आनंद कुमार का कच्चा- चिट्ठा

आनंद कुमार सुपर थर्टी के नाम पर जो धन उगाही का जरिया खोल रखे थे उस गुनाहों की सारी करतूत Wikipedia पर भी दर्ज हो चुकी है जी हां आनंद कुमार के बारे में Wikipedia अब उनकी प्रोफाइल में यह भी बताएगा कि आनंद कुमार कोचिंग के नाम पर फर्जी तरीके से धन उगाही कर रहे थे वहीं उनके नाम पर अघोषित कई प्रॉपर्टी भी हैं जो उनके परिवार वालों के नाम पर हैं फिर भी आनंद कुमार अपने आप को गरीब बताते हैं दूसरी और सबसे बड़ी बात यह है कि आनंद कुमार के द्वारा 26 बच्चों की झूठी लिस्ट को प्रसारित किया गया था जिसके बारे में भी Wikipedia पर अब यह बात लिख दी गई है कि फेक IIT रिजल्ट्स। दिलचस्प बात यह है कि Wikipedia पर यह बातें नॉन एडिटेबल है मतलब कि इस खबर को अब संपादित नहीं किया जा सकता और ना ही इसे बदला जा सकता है। क्योंकि Wikipedia ने भी इस बात को कुबूल लिया है कि आनंद कुमार की चुप्पी के पीछे उनके झूठ का यही सच Wikipedia पर होना चाहिए।

फिलहाल आनंद कुमार का असली चेहरा Wikipedia पर दर्ज होना बड़ी बात है, क्योंकि जो खुद को महान गणितज्ञ बताता है और एक अपराधी को छुड़ाने के लिए थाने में जाकर कानूनी प्रक्रिया में बाधा डालता है तो ऐसे लोगों की असली प्रोफाइल Wikipedia जैसे प्लेटफॉर्म पर बनना बेहद जरूरी है ताकि लोगों को आनंद कुमार जैसे लोगों की असलियत बारीकी से पता रहे ।

सबसे बड़ी बात यह है कि आनंद कुमार के द्वारा 26 बच्चों की झूठी लिस्ट को प्रसारित किया गया था जिसके बारे में भी Wikipedia पर अब यह बात लिख दी गई है कि फेक IIT रिजल्ट्स। दिलचस्प बात यह है कि Wikipedia पर यह बातें नॉन एडिटेबल है मतलब कि इस खबर को अब संपादित नहीं किया जा सकता और ना ही इसे बदला जा सकता है। क्योंकि Wikipedia ने भी इस बात को कुबूल लिया है कि आनंद कुमार की चुप्पी के पीछे उनके झूठ का यही सच Wikipedia पर होना चाहिए।

पिछला लेखअजमेर कलक्टर ने निर्वाचन के स्वीप रथों को रवाना किया
अगला लेखसिरोही के तीनो महाविद्यालय में अध्यक्ष पद पर एबीवीपी की जीत
© Y2KSOLUTION