अमृता हाट का शुभारम्भ : रोजाना होगा ईनामी कूपन का ड्रॉ

अजमेर। महिलाओं को आत्मनिर्भर व आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए राज्य सरकार की अनूठी पहल के रूप में अमृता हाट शुक्रवार से वैशाली नगर स्थित अरबन हाट पर शुरू हो गया। यहां स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित उच्च गुणवत्ता के उत्पाद आमजन के लिए उपलब्ध है।

मेले में एक हजार रूपए अथवा अधिक की खरीददारी पर एक निःशुल्क ईनामी कूपन दिया जायेगा जिसका ड्रा प्रतिदिन शाम 8 बजे निकाला जाएगा। ड्रा के विजेता को पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।

मसूदा विधायक सुशील कंवर पलाड़ा, समाजसेवी भंवर सिंह पलाड़ा, उप महापौर संपत सांखला एवं प्रो. बीपी सारस्वत ने मेले का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विधायक पलाड़ा ने कहा कि अमृता हाट महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने एवं उनके सर्वागीण विकास के लिए एक अनूठी योजना है।

स्वयंसेवी संगठनों की महिलाओं को जहां विस्तृत मार्केट उपलब्ध होता है वहीं आमजन को उच्च गुणवत्ता के उत्पाद मिल जाते हैं। इस तरह के आयोजनों को और अधिक बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

समाजसेवी भंवर सिंह पलाड़ा ने आयोजन के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग को बधाई देते हुए कहा कि यह महिलाओं के सशक्तीकरण एवं उन्हें आर्थिक आजादी के लिए एक अहम आयोजन है। इस तरह के आयोजन से महिलाओं में आत्मविश्वास भी बढ़ता है।

उपमहापौर संपत सांखला ने कहा कि महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल द्वारा शुरू किया गया यह हाट सफलता के नए कीर्तिमान रच रहा है। आने वाले दिनों में इसे और अधिक बड़े स्तर पर आयोजित किया जाएगा।

अध्यक्ष प्रो. बीपी सारस्वत ने कहा कि मुख्यमंत्री राजे द्वारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रदेश में कई योजनाएं लागू की गई है। महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय में लघू उद्यमिता केन्द्र में कई व्यावसायिक प्रशिक्षण के जरिए महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है।

महिला अधिकारिता विभाग की उप निदेशक अनुपमा टेलर एवं सहायक निदेशक नगेन्द्र कुमार तोलम्बिया ने बताया कि महिलाओं को आत्मनिर्भर व आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से यह आयोजन किया जा रहा है। इससे स्वयं सहायता समूहों का आर्थिक सुढृढ़ीकरण होगा। अमृता हाट में राज्य के प्रत्येक जिले से महिला स्वंय सहायता समूह द्वारा निर्मित उत्पाद सामग्री का विपणन किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि राज्य के प्रत्येक जिले से महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा गठित स्वंय सहायता समूह उत्पाद सामग्री का विपणन करेंगे जिनमें मोलेला के टेराकोटा क्राफ्ट, बोनसाई प्लांट, साड़ी, आरातारी, मूंग पापड़, आर्टिफिशल ज्वैलरी, रेडिमेडट गारमेन्ट्स, श्रृंगार का सामान, आचार-मुरब्बा, घर के साज-सज्जा के सामान पापड, नेट साडी, हैण्डीक्राफ्ट आईटम, चद्दरे, मोलेला आर्ट, पेचवर्क, साड़ी, पूजा थाली, चमड़े की जूतियां, बागवानी, हर्बल प्रोडक्ट्स, भगवान की पोशाक, लाख की चुड़ियां, मक्का के पापड़, बच्चों के गारमेण्ट्स, लोहे के सामान, पुष्कर का गुलाबजल, मुरब्बा, गोलबंद, ऑवला कैण्डी, किशनगढ़ मार्बल आइटम सहित अन्य सामग्री का विपणन होगा। इन सभी प्रतिभागी स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को निःशुल्क भोजन एवं आवास की व्यवस्था हाट बाजार में ही विभाग द्वारा की गई है।

उन्होंने बताया कि अमृता हाट में महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए सुबह 11 बजे से एक बजे तक विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के संबंध में कार्यशाला आयोजित की जाएगी। जिला परिषद द्वारा 11 मार्च को, महिलाओं के आर्थिक उन्नयन के लिए 12 तथा 13 मार्च को, तथा विधिक सेवा प्राधिकरण एवं जिला रसद अधिकारी द्वारा 14 मार्च को सुबह 11 बजे से कार्यशाला आयोजित की जाएगी। इसके साथ ही कलाकारों के द्वारा रोजाना शाम 6 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए जाएंगे। इसके साथ ही 10 मार्च को मेहंदी एवं पोषण प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी।

उन्होंने बताया कि मेले में समूहों द्वारा उत्पादित सामग्री की खरीददारी पर पुरस्कार भी दिया जाएगा। प्रतिदिन एक हजार रूपए एवं अधिक की खरीदारी पर ईनामी कूपन दिया जाएगा। इसका ड्रॉ रोजाना सायं 8 बजे होगा। विजेताओं को पुरस्कार दिए जाएंगे। साथ ही अमृता हाट के समापन अवसर पर बम्पर ड्रॉ खोला जाएगा। इसमें विजेता को बड़ा पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।