आनासागर झील क्षेत्र में निर्माण करने एवं मलबा डालने पर होगी सख्त कार्यवाही

अजमेर। आनासागर झील क्षेत्र एक संरक्षित क्षेत्र है। इसमें बिना अनुमति निर्माण करने एवं झील क्षेत्र में मलबा डालना पूर्ण प्रतिबंधित हैं। ऎसा पाए जाने पर सख्त कार्यवाही अमल में लाई जाएगी तथा संबंधित के विरूद्ध एफआईआर भी दर्ज की जाएगी।

कलक्टर आरती डोगरा ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत होने वाले विभिन्न कार्यों, एलिवेटेड रोड, हृदय योजना एवं अमृत योजना के कार्यों की समीक्षा कर रही थीं। उन्होंने झील के सौन्दर्यीकरण के संबंध में चर्चा की तथा झील में मलबा डालने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि समस्त कार्यों में गति लाई जाए। जिन कार्यों की डीपीआर स्वीकृत हो चुकी है उनके टेण्डर शीघ्र लगाए जाएं।

कलक्टर ने एलिवेटेड रोड के संबंध में विस्तार से चर्चा की तथा सुगम परिवहन की संभावनाओं के लिए अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर श्री अरविंद कुमार सेंगवा को उप अधीक्षक पुलिस (यातायात), आरएसआरडीसी, स्मार्ट सिटी के अधीक्षण अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता के साथ मौका देखने के निर्देश भी दिए।

ये टीम शीघ्र आगरा गेट, रेलवे स्टेशन एवं मार्टिण्डल ब्रिज के निकट तक यातायात सुगम बनाने के लिए अपने सुझाव देगी। उन्होंने सोलर एनर्जी, आनासागर विकास, ई गर्वेनेंस, स्मार्ट क्लासेस, सिवरेज प्रोजेक्ट के कार्यों की भी समीक्षा की तथा सभी कार्य नियत समय में पूर्ण करने के निर्देश दिए।

कलक्टर ने सुभाष उद्यान, लैक फ्रन्ट, हैरिटेज वॉक, बर्ड पार्क के संबंध में भी प्रगति की जानकारी ली। नगर निगम के आयुक्त हिमांशु गुप्ता ने शहर में स्मार्ट सिटी के तहत हो रहे कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वर्षा आने से पूर्व समस्त नालों की सफाई भी करवा दी जाएगी। इस मौके पर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के समस्त अधिकारी, आरएसआरडीसी के प्रतिनिधि सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।