सिरसा में टीचर के खिलाफ एक और नाबालिग छात्रा के यौन शोषण का केस

सिरसा। हरियाणा के सिरसा जिले के डबवाली क्षेत्र के एक राजकीय माध्यमिक वरिष्ठ कन्या विद्यालय में एक और नाबालिग छात्रा का यौन शोषण करने का मामला सामने आया है।

इस मामले में आरोप शारीरिक शिक्षा शिक्षक पर है। डबवाली महिला पुलिस थाना में पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस आरोपी शारीरिक शिक्षा शिक्षक की धरपकड़ के लिए दबिश दे रही है, मगर आरोपी फरार हो गया है। इससे पहले भी जुलाई माह में एक छात्रा उपरोक्त शिक्षक पर छेड़छाड़ का मामला दर्ज करवा चुकी है।

डबवाली के पुलिस उपाधीक्षक बेनीवाल ने बताया कि एक नाबालिग छात्रा ने पुलिस को शिकायत देकर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। छात्रा ने बताया कि जब वह नवीं कक्षा की छात्रा थी और खेलों में हिस्सा लेती थी तो आरोपी शिक्षक उसे बहला-फुसलाकर उसका यौन शोषण करता रहा। पुलिस ने इस शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।

एक और छात्रा के यौन शोषण का मामला सामने आने से गांववासियों में भी उपरोक्त शिक्षक के खिलाफ गुस्सा फुटा हुआ है। पुलिस के अनुसार गत जुलाई में जिस छात्रा की शिकायत पर आरोपी डीपीई टीचर के खिलाफ महिला थाने में पोक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया था उसमें आरोपी को कोर्ट से स्टे मिल गया था।

इसके बाद पीड़िता छात्राओं के अभिभावकों ने स्टेट कमीशन फॉर चाइल्ड राइट्स की चेयरपर्सन को शिकायत की। चेयरपर्सन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच कमेटी का गठन किया। जांच कमेटी ने विद्यालय की छात्राओं के साथ बातचीत की तो कई और छात्राओं ने इस शिक्षक पर गम्भीर आरोप लगाए। जांच कमेटी ने इसके बाद करीब 13-14 ओर छात्राओं के बयान भी दर्ज किए है।

बाल संरक्षण अधिकारी ने सिरसा के पुलिस अधीक्षक डॉ. अर्पित जैन को एक पत्र भेजा है, जिसमें छात्राओं का हवाला देते हुए कहा गया है कि आरोपी की जमानत मंजूर हो जाने से लड़कियां और उनके परिजन सहमे हुए हैं। परिवार और बालिकाओं पर मामले को दबाने और कई अन्य तरह का दबाव भी बनाया जा सकता है। इसलिए इस मामले में सख्त कानूनी कदम उठाए जाने की जरूरत है। बाल संरक्षण अधिकारी ने छात्राओं की सुरक्षा के लिए भी सख्त कदम उठाने के लिए पत्र में लिखा है।