कोरोना वायरस जैसे-जैसे बढ़ रहा है नियम भी सख्त होते जा रहे हैं

As the coronavirus is growing the rules are also becoming stricter
As the coronavirus is growing the rules are also becoming stricter

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 21 जिलों का लॉकडाउन लगाया था लेकिन आज 16 दिन बीत जाने के बाद भी इस संक्रमण में तेजी आती जा रही है। लोग लॉकडाउन का उतनी अच्छी तरह से पालन नहीं कर रहे हैं जितना उनको करना चाहिए इसलिए यह संक्रमण हर रोज तेजी साथ बढ़ता जा रहा है। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए अब केंद्र और राज्य सरकारों ने और नियम सख्त कर दिए हैं।

अब लॉकडाउन से भी सख्त नियम सुपर कर्फ्यू लगाया गया है। अब लोग जरूरत का सामान सब्जी, दूध, दवा की खरीदारी करने के लिए घर से बाहर नहीं निकल सकेंगे। राजधानी दिल्ली के कई इलाके और उत्तर प्रदेश के 15 जिलों के कई इलाके पूरी तरह सील कर दिए गए हैं। महाराष्ट्र में मुंबई के कई इलाकों को सील किया गया है वहीं राजस्थान के भीलवाड़ा और जयपुर के रामगंज इलाकों को भी पहले ही सील कर दिया गया है।

लॉकडाउन और सीलिंग में यह रहेगा अंतर

उत्तर प्रदेश, दिल्ली और मध्य प्रदेश की सरकार ने अपने राज्यों ने चिन्हित इलाकों को पूरी तरह से सील कर दिया है। यानी यहां अब सबकुछ पूरी तरह से बंद होगा। लॉकडाउन और सील में क्या अंतर है आइए जानते हैं। राज्य के 15 जिलों में चिन्हित किए गए हॉटस्पॉट में आवाजाही पर पूरी तरह से रोक लगेगी। यानी अब तक लॉकडाउन के दौरान जो कुछ छूट मिलती थीं, वो भी नहीं मिलेगी।इन हॉटस्पॉट में लगातार पुलिस गश्त करती रहेगी और अगर कोई भी व्यक्ति घर से बाहर आता है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी।

सील किए गए इलाकों को लगातार सैनिटाइज किया जाएगा, इसके लिए फायर सर्विस की मदद ली जाएगी। चिन्हित स्थानों पर सिर्फ पुलिस, स्वास्थ्यकर्मी और सफाईकर्मी ही आ-जा सकेंगे, बाकि किसी को भी एंट्री नहीं मिलेगी। बैंक-राशन की दुकानें बंद रहेंगी, जिन्हें लॉकडाउन के दौरान कुछ पास दिए गए थे वो पास भी निरस्त कर दिए जाएंगे। सील इलाकों में सिर्फ जरूरत पड़ने पर एम्बुलेंस को एंट्री मिल सके। हॉटस्पॉट में मीडिया को कवरेज की इजाजत नहीं होगी, लेकिन अगर इन इलाकों में कोई मीडियाकर्मी रहता है तो वह दफ्तर जा पाएगा।

सीलिंग के दौरान प्रशासन घर-घर सामानों की होम डिलीवरी करवाएगा

जिन जिन राज्यों में सीलिंग की गई है वहां पर प्रशासन हर घर में जरूर सामानों की होम डिलीवरी करवाने जा रहा है। ऐसे में अगर हॉटस्पॉट वाले क्षेत्र में से किसी को कुछ जरूरत है तो वह प्रशासन से संपर्क कर सकता है। अब अगर कोई भी व्यक्ति घर से बाहर निकलता है, तो उसे मास्क लगाना या चेहरा ढकना जरूरी होगा, ऐसा ना करने पर प्रशासन कार्रवाई कर सकता है।

यहां हम आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से देश में लॉकडाउन लागू है, ऐसे में जरूरी सामान के लिए छूट मिली हुई थी, जैसे बैंक-सब्जी की दुकान, किराना की दुकान, डेरी, मेडिकल स्टोर समेत अन्य कुछ महत्वपूर्ण दुकानें खुली थीं। जहां लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर सामान ले सकते थे। लेकिन अब जिन इलाकों को सील कर दिया गया है, वहां ये सब बंद होगा कोई भी घर से बाहर कदम नहीं रख पाएगा।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार