गहलोत राष्ट्रवादी संगठनों के खिलाफ रच रहे हैं साजिश : सतीश पूनियां

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर कांग्रेस के झगड़े, मंत्रिमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों से ध्यान भटकाने के लिए राज्य में राष्ट्रवादी संगठनों के खिलाफ षड़यंत्र रचने का आरोप लगाते हुए कहा है कि इसमें वह कभी सफल नहीं होंगे।

डा पूनियां ने आज बयान जारी कर कहा कि भगवान श्रीराम के अस्तित्व को नकारने वाली कांग्रेस पार्टी के राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा राष्ट्रवादी विचारधारा व संगठनों को बदनाम करने का षडयंत्र किया जा रहा है, जिससे पूरे राजस्थान की जनता आक्रोश में है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रवादी संगठनों के खिलाफ किये जा रहे षड़यंत्र में श्री गहलोत कभी सफल नहीं होंगे, लोकतंत्र की बातें करने वाले गहलोत सरकारी संस्थाओं व मशीनरी का दुरुपयोग कर रहे हैं, जो सरकार के कमजोर व डगमगाने के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, प्रदेश की जनता इस कृत्य के लिये इनको कभी माफ नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के आपसी झगड़े, मंत्रिमंडल विस्तार एवं राजनीतिक नियुक्तियों से ध्यान भटकाने व दिल्ली में बैठे कांग्रेस आलाकमान को खुश करने के लिए वह राष्ट्रवादी संगठनों के खिलाफ साजिश रच रहे हैं, जो इनकी कुत्सित मानसिकता को दर्शाता है।

उन्होंने कहा कि हमारे राज्य के राजनीतिक सदभाव की चर्चा देशभर में होती थी, लेकिन कांग्रेस सरकार के शासन में गहलोत ने विद्वेषपूर्ण, प्रतिशोध और सियासी षड़यंत्रों की राजनीति शुरू कर संस्थाओं और व्यक्तियों का चरित्र हनन को अपना मुख्य एजेंडा बना लिया है।

डा पूनियां ने कहा कि प्रदेश की जनता-कार्यकर्ता गहलोत सरकार के इस कृत्य को देख रहे हैं, हर चुनौता का सामना करेंगे और वक्त आने पर जनता जवाब देगी।

गहलोत सत्ता का दुरूपयोग कर रहे हैं : राजे

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि अपनी विफलता को छुपाने एवं जनहित के मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सरकारी एजेंसियोंं का बेजा इस्तेमाल किया जा रहा हैं।

राजे ने घूसकांड में जयपुर नगर निगम ग्रेटर की पूर्व मेयर के पति राजाराम गुर्जर के साथ संघ के क्षेत्रिय प्रचारक निम्बाराम को आरोपी बनाने के मामले में बुधवार शाम को ट्वीट कर कहा कि अपनी विफलता को छुपाने व जनहित के मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए सरकारी एजेंसियोंं का बेजा इस्तेमाल किया जा रहा हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि गहलोत सत्ता का दुरूपयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गहलोत का सिर्फ एक ही एजेंण्डा हैं, भाजपा एवं संघ को बदनाम करना।