राजस्थान में गुटबाजी को लेकर कठोर निर्णय ले सकती है कांग्रेस

इंदौर। भारत जोड़ो यात्रा के राजस्थान में प्रवेश करने से पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट में तेज हुई गुटबाजी के बीच कांग्रेस ने कहा है कि स्थिति सुधारने के लिए पहले सुलह समझौते का प्रयास किया जाएगा और बात नहीं बनी तो कठोर निर्णय भी लिए जा सकते हैं।

गहलोत-पायलट के बीच चल रही जबरदस्त गुटबाजी को लेकर यह टिप्पणी आज यहां कांग्रेस संचार विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कही। उनका कहना था कि प्रदेश में पार्टी को मजबूत करने के लिए दोनों पक्षों के बीच केंन्द्रीय स्तर पर भी सुलह कराने का प्रयास चल रहा है और यदि पार्टी हित में सुलह नहीं हुई तो कांग्रेस नेतृत्व कड़े फैसले भी ले सकता है।

उन्होंने कहा की पायलट को लेकर गहलोत की टिप्पणी आपत्तिजनक थी। एक वरिष्ठ नेता को युवा और ऊर्जावान साथी के लिए अच्छी टिप्पणी करनी चाहिए। उम्मीद की जानी चाहिए कि संकट का समाधान जल्द निकलेगा।

रमेश ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व राजस्थान के बारे में गंभीरता से विचार कर रहा है और मतभेदों को दरकिनार कर दोनों नेताओं से समझौता करने और पार्टी हित में कदम उठाने का आग्रह किया जा रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस समस्या का हल जल्दी निकाल लिया जाएगा।