सरकार चलाने में विफल हो चुके हैं अशोक गहलोत : सतीश पूनियां

जयपुर। राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डा. सतीश पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सरकार चलाने में पूरी तरह विफल करार देते हुए कहा है कि कोरोना महामारी की रोकथाम एवं लॉकडाउन में सरकारी निर्देशों की पालना कराने में उनका प्रशासन असफल हो चुका है।

डा पूनियां ने आज यहां नरेन्द्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूरे होने पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने गहलोत के रेल मंत्री पीयूष गोयल पर की गई टिप्पणी को लेकर किए गए सवाल पर कहा कि गहलोत प्रदेश की सरकार चलाने में विफल हो चुके है और कोरोना महामारी की रोकथाम एवं लॉकडाउन के दौरान सरकारी निर्देशों की पालना कराने में उनका प्रशासन पूरी तरह फेल हो चुका है। इसलिए वह अपनी विफलता का ठीकरा बयानों के जरिये केन्द्र सरकार पर फोड़ना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि गोयल ने तो रेल के जरिये 50 लाख लोगों को उनके घरों तक पहुंचाया है। लेकिन चार हजार बस होने का दावा करने वाले गहलोत के शासन वाले राज्य की सारी सड़कों पर भूखे-प्यासे प्रवासी तो पिछले डेढ़ महीने से भटक रहे हैं। चन्दे का धन्धा चलाना कांग्रेस का पूराना काम है। इसलिए अब जब यह धन्धा बंद हो रहा है तो यह बौखला रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनियां में भारत का नाम बढ़ाया है वहीं देश के गरीब, किसान, नौजवान का जीवन भी बदला है। उन्होंने कहा कि पिछले कार्यकाल में मोदी सरकार ने जो स्वच्छ भारत मिशन चलाया था उसका महत्व संकट के समय में अब समझ आ रहा है। 40 करोड़ से ज्यादा जो जन-धन खाते खोले थे आज सोशल डिस्टेंसिंग के समय में सरकारी योजनाओं का लाभ उनके जरिये सीधा लोगों तक पहुंच रहा है।

उज्जवला योजना में मोदी सरकार की तरफ से गरीब महिलाओं को दिए गए आठ करोड़ से ज्यादा मुफ्त गैस कनैक्शन ने उन्हें धुएं से आजादी दिलाने का काम किया है। पिछले कार्यकाल में ही गरीब परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना में दो करोड़ से अधिक घर बनाकर देने का काम मोदी ने सरकार ने किया है। करोड़ों की संख्या में शौचालयों का निर्माण, हजारों गांवों तक बिजली पहुंचाने, लाखों किलोमीटर तक सड़को का जाल बिछाने, दुश्मन के हमलों का मुंहतोड़ जवाब देने सहित भारत के विकास और गौरव के लिए मोदी सरकार ने अनेकों काम किए है।

डा पूनियां ने कहा कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले वर्ष में ही ऐसे ऐतिहासिक काम हुए जिसका इंतजार देश 70 वर्षों से कर रहा था। मोदी ने इस एक वर्ष में दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाते हुए कश्मीर में अनुच्छेद 370 एवं 35ए खत्म किया। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक आधार पर प्रताड़ित हिन्दू, सिख, जैन, पारसी, बौद्ध, ईसाईयों को भारत की नागरिकता देने के लिए नागरिकता कानून में संशोधन किया।

करोड़ों लोगों के आस्था के केन्द्र अयोध्या में भगवान श्रीराम के मन्दिर के निर्माण के लिए उच्चतम न्यायालय में पैरवी कर फैसला कराया और आज वहां निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। दशकों से तीन तलाक का दंश झेल रही मुस्लिम बहिनों को इस सामाजिक बुराई से निजात दिलाते हुए तीन तलाक को खत्म करने का काम भी किया।

डा. पूनियां ने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक आपदा से लड़ने के लिए की गई मोदी सरकार की बेहतर तैयारी की वजह से भारत दुनियां के विकसित देशों की तुलना में कहीं अधिक अच्छे तरीके से इस बीमारी से लड़ पा रहा है। कोरोना संक्रमण के समय से पहले भारत में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी, इतने कम समय में आज भारत प्रतिदिन 4.5 लाख पीपीई किट बना रहा है। प्रतिदिन तीन लाख से ज्यादा एन95 मास्क बना रहा है, हजारों की संख्या में स्वदेशी वेंटीलेटर का निर्माण हो रहा है, 74 हजार से अधिक आईसीयू तैयार किए है। यह आंकड़े दिखाते है कि केन्द्र सरकार ने कितने बेहतर तरीके से इस बीमारी से लड़ने की तैयारी की।

केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनियां की चिंता करते हुए 130 देशों तक जीवन रक्षक दवाई भारत ने पहुंचायी है, जिसकी पूरी दुनियां में सराहना हो रही है और इसी वजह से आज भारत विश्व स्वास्थ्य संगठन का कार्यकारी अध्यक्ष बना है।

उन्होंने कहा कि देश के लोगों के जीवन की सुरक्षा को प्राथमिकता पर रखकर आर्थिक नुकसान की परवाह ना करते हुए शुरूआती दौर में ही सरकार ने लाकडाउन का ऐलान किया और गरीब व सामान्य व्यक्ति को तकलीफ ना हो इसलिए शुरूआत में ही एक लाख 70 हजार करोड़ का गरीब कल्याण पैकेज भारत सरकार ने दिया। 80 करोड़ से अधिक लोगों को राशन सामग्री (5 किलो गेहूं, 1 किलो चावल, 1 किलो दाल) सरकार ने दी। प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए 3840 विशेष श्रमिक रेलगाड़ियां चलाई, जिसमें 50 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुँचाया गया।

इसके साथ ही 8 करोड़ प्रवासी मजदूरों को 2 महीने तक सरकार द्वारा राशन देने का काम किया गया। 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज नरेन्द्र मोदी सरकार ने हर क्षेत्र के उद्योगों, व्यापारी, कामगार, मजदूर, किसान, पशुपालक के लिए जारी किया। मनरेगा में कहीं भी काम करने की छूट के साथ ही दैनिक मजदूरी 182 एसे बढ़ाकर 202 रूपए की।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के इस सफलतम एक वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने पर चलाए जाने वाले अभियान की शुरूआत प्रदेश भाजपा सेवा के कामों से करेगी। इसके लिए इस महीने के प्रथम सप्ताह से भाजपा के सभी मोर्चो के कार्यकर्ता जनता में मास्क एवं सेनेटाइज का वितरण करेंगे एवं लोगों को इस बीमारी से बचाव के लिए जागरूक करेंगे।

प्रदेश के 25 लाख घरों तक सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए दो-दो कार्यकर्ता प्रधानमंत्री का पत्र लेकर जाएंगे और भाजपा सरकार की नीतियों और कार्य योजना की जानकारी देंगे। इस बदले दौर में भाजपा प्रदेश के सात सम्भागों, 44 संगठनात्मक जिलों एवं 200 विधानसभाओं में वर्चुअल रैली करेगी। प्रदेश के बाद सम्भाग, जिला एवं पंचायत समिति स्तर पर पत्रकार वार्ताओं का आयोजन भी किया जाएगा।