अशोक गहलोत के दिल्ली दौरे से मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा तेज

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का 16 अक्टूबर को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की होने वाली कार्यसमिति की बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली जाने का कार्यक्रम है।

लंबे अरसे के बाद इस साल गहलोत का यह दूसरा दिल्ली दौरा होगा। इससे पहले गहलोत 27 फरवरी 20 को दिल्ली गए थे। गहलोत कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य नहीं हैं, लेकिन अब तक की बैठकों में कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री शामिल होते रहे हैं। इसलिए गहलोत मुख्यमंत्री के तौर पर बैठक में शामिल होंगे।

इस बीच गहलोत के दिल्ली दौरे की राजनीतिक गलियारे में अभी से चर्चाएं तेज हो गई हैं। गहलोत के दिल्ली दौरे से सरकार और संगठन में होने वाले बदलावों का सीधा संबंध हैं। अब लंबे समय से प्रदेश में मंत्रिमंडल फेरबदल, राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन विस्तार पर हाईकमान और कांग्रेस की राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ ही राहुल गांधी और प्रियंका से भी इस बात की चर्चा होना निश्चित माना जा रहा है।

गहलोत दिल्ली दौरे के दौरान संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, प्रभारी अजय माकन सहित पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं से मिल सकते हैं। हाल ही में चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा को गुजरात सहित दमन दीप का प्रभारी बनाए जाने के बाद यह चर्चा जोरों पर होने लगी है कि अब इनको मंत्री पद से हटाया जा सकता है।

इसके अलावा संगठन में चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने के कारण भी कुछ और मंत्रियों को भी हटाए जाने की चर्चा जोरों पर है। यह स्पष्ट माना जा रहा है कि मंत्रिमंडल में फेरबदल, राजनीतिक नियुक्तियां और संगठन में व्यापक बदलाव दीपावली से पूर्व किए जाने की प्रबल संभावना है।