भारत-ऑस्ट्रेलिया के रांची टेस्ट में स्पॉट फिक्सिंग की आशंका

ऑस्ट्रेलिया- भारत का रांची खेला गया टेस्ट मैच भी स्पॉट फिक्सिंग के संदेह के घेरे में
ऑस्ट्रेलिया- भारत का रांची खेला गया टेस्ट मैच भी स्पॉट फिक्सिंग के संदेह के घेरे में

मेलबोर्न। श्रीलंका-ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका-भारत के बाद अब ऑस्ट्रेलिया-भारत का रांची में मार्च 2017 में खेला गया टेस्ट मैच भी स्पॉट फिक्सिंग के संदेह के घेरे में आ गया है।

मीडिया हाउस अल जज़ीरा ने अपनी एक डाक्यूमेंट्री के जरिये वर्ष 2016 में श्रीलंका और आस्ट्रेलिया के बीच गाले तथा 2017 में श्रीलंका और भारत के बीच गाले में खेले गए टेस्ट मैच में कथित तौर पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। इस डाक्यूमेंट्री में रांची में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए टेस्ट पर भी सवाल उठाए गए हैं।

रांची टेस्ट पर आरोप लगाए गए हैं कि मैच में एक निश्चित अवधि में कुछ ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने उस गति से रन बनाए थे जो फिक्सरों ने सट्टेबाजी के लिए निर्धारित किए थे। सट्टेबाजी भारत में गैर कानूनी है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इन आरोपों के बाद टीवी चैनल अल जजीरा से रॉ फुटेज और गैर सम्पादित सामग्री देने का अनुरोध किया है ताकि वह इस बात की जांच कर सके कि रांची टेस्ट पर लगाए गए स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों में कोई सत्यता है या नहीं और इस मामले में जांच की जरूरत हैं या नहीं।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भ्रष्टाचार के इन दावों पर कहा है कि न तो आईसीसी और न ही क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के खिलाफ किसी भी तरह के ठोस सबूतों की जानकारी है।

ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड ने कहा है कि उसे अब तक डाक्यूमेंट्री या रॉ फुटेज देखने का मौका नहीं मिल पाया है जिसमें भ्रष्टाचार के आरोपों को लगाया गया है इसलिए उसने एक जजीरा से यह उपलब्ध करने का अनुरोध किया है।

डॉक्यूमेंट्री में अल जजीरा ने एक भारतीय नागरिक अनील मुन्नवर को दिखाया है जिसके लिए कहा जाता है कि वह डी कंपनी के लिए काम करता है। इस व्यक्ति को अंडरकवर रिपोर्टर को दो ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का नाम बताते दिखाया गया है जो फिक्सिंग का हिस्सा हैं।

इन क्रिकेटरों के नाम फिलहाल हटा दिए गए हैं लेकिन अल जजीरा का कहना है कि वह सम्बंधित अधिकारियों को इनकी जानकारी दे सकता है। चैनल का कहना है कि मुन्नवर ने जिन दो ऑस्ट्रेलियाइयों का नाम लिया है उन्होंने आरोपों का कोई जवाब नहीं दिया है।

अल जजीरा का दावा है कि टेस्ट के दौरान एक निश्चित अवधि के अंदर रन स्कोरिंग को लेकर मुन्नवर ने अंडरकवर रिपोर्टर को जो जानकारी दी है, उस दौरान उसी हिसाब से रन बने थे।

चैनल का कहना है कि बल्लेबाज को धीमी गति से रन बनाने के निर्देश थे ताकि जो रन बनें वो अवैध सट्टा बाजार में लगाए जा रहे सट्टों से कम रहे। चैनल ने साथ ही कहा कि किसी अन्य ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कार्यकारी जेम्स सदरलैंड ने एक बयान में कहा है कि उनका बोर्ड आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई को इस मामले की समीक्षा में पूरा सहयोग करेगा।