ऑटो चालक से मुख्यमंत्री बनने का एकनाथ शिंदे का सफर

मुंबई। महाराष्ट्र में गुरुवार को शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। शिंदे ने पार्टी कार्यकर्ता के रूप में राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने हैं।

शिंदे का जन्म 9 फरवरी 1964 को मुंबई में हुआ था। उन्होंने पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी और वह शिवसेना में शामिल हो गए। उन्होंने जरूरत पड़ने पर ठाणे में ऑटो रिक्शा चलाने का भी काम किया है।

उन्हें शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे और आनंद दीघे से राजनीतिक जीवन में काफी कुछ सीखने को मिला। उन्होंने ठाणे-पालघर क्षेत्र से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की और पार्टी के प्रमुख नेता के तौर पर पहचान बनाई। वह जनता के मुद्दों को हमेशा से आक्रमक तरीके से उठाते रहे हैं।

शिंदे 1997 में ठाणे नगर निगम में पार्षद चुने गए। वह 2004, 2009, 2014 और 2019 के लिए महाराष्ट्र विधानसभा के सदस्य चुने गए। चार बार विधायक रहे शिंदे 2019 में महाविकास अघाड़ी सरकार में शहरी विकास और पीडब्ल्यूडी विभाग के मंत्री का प्रभार संभाले।

उन्होंने शिव सैनिक के रूप में बेलगौवी की स्थिति को लेकर महाराष्ट्र-कर्नाटक आंदोलन में भाग लिया था, जिसके बाद वह 40 दिनों तक जेल में रहे।

बागी विधायकों ने उद्धव ठाकरे की पीठ में छुरा घोंपा : संजय राउत

भाजपा ने फड़नवीस को उपमुख्यमंत्री बनाकर अचरज में डाला