VIDEO बंद समर्थकों ने व्यापारी को किया लहूलुहान, पुलिस ने समर्थकों को दौड़ाया

sirohi, bharat band,
dharna of band supporters at sirohi collectrate

सबगुरु न्यूज-सिरोही। सुप्रीम कोर्ट द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम-1989 में संशोधन के विरोध में सोमवार को जिले में कई जगह पुलिस और बंद समर्थकों में झडपें हुई। सिरोही में बंद समर्थकों ने एक व्यापारी का सिर फोड़कर उसे लहूलुहान कर दिया। इसके बाद पुलिस ने बंद समर्थकों को भगाने को डंडे भांजे।

व्यापारी भी बंद समर्थकों के विरोध में उतर आए। जिले में बंद का आंशिक और मिलजुला असर दिखा। सरूपगंज व मंडार में भी पुलिस और बंद समर्थकों के मध्य हल्की झडपें हुई। आबूरोड व माउण्ट आबू में शांतिपूर्ण माहौल में रैलियां निकाली गई। सिरोही में बाद में बाजार खुल गया।

भारत बंद का जिले में आंशिक और मिलाजुला असर रहा। जिला मुख्यालय पर बाजार पूर्ववत खुले। कुछ दुकानें बंद रहीं। दोपहर को बंद समर्थकों की रैली निकली तो इन्होंने बाजार में ुखुली हुई दुकानों को जबरन बंद करवाने का प्रयास किया। व्यापारियों ने बंद भी किया।

लेकिन, राजमाता धर्मशाला रोड पर बर्तन व्यापारी कैलाश कंसारा की दुकान खुली थी। इसे बंद करवाने के लिए बंद समर्थकों के साथ आए असामाजिक तत्व बर्तनों पर लकड़ियां मार रहे थे। इसी दौरान किसी ने कैलाश कंसारा के सिर पर वार कर दिया। इससे वह लहूलुहान हो गया।

इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करके बंद समर्थकों को खदेडा। इसके बाद स्थानीय व्यापारी भी इनके विरोध में खडे हो गए। सिरोही जिला मुख्यालय पर सिरोही के साथ शिवगंज तहसील के लोगों का भी एकत्रिकरण सिरोही मंे ही होने से यहां पर करीब चार-पांच हजार लोगों का एकत्रीकरण हुआ।

पुलिस और व्यापारियों के एग्रेसिव रूप में आने पर सभी बंद समर्थक रैली के रूप में सीधे कलक्टरी पहुंचे। वहां जिला कलक्टर संदेश नायक और पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश को ज्ञापन सौंपा।

sirohi, band, collecterete
band supporter going to show broken police stick as evidencr of lathicharge to tham to collecter

-सधी भाषा में दिया ज्ञापन
प्रदर्शनकारियों ने जिला कलक्टर के माध्यम से राष्ट्रपति को बडी ही सधी और शालीन भाषा में ज्ञापन सौंपा। इसमें उच्चतम न्यायालय द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम-1989 में किए गए प्रावधानों से एफआईआर दर्ज करवाते ही बिना जांच के गिरफ्तारी के प्रावधान पर रोक लगाने को लेकर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का अनुरोध किया गया है।

इसमें आशंका जताई गई है कि इस प्रावधान को हटाने से अत्याचारों बढोतरी होगी। इधर, सिरोही में एकत्रित हुई भीड में अधिसंख्य लोगों को यह जानकारी नहीं थी कि आखिर यह एकत्रितकरण है किसलिए।

इस प्रदर्शन में आए अंदौर के एक युवक ने बताया कि उनके गांव में घोडे पर चढने के कारण उनकी जाति के युवक की टांग तोड देने के कारण वह एकत्रित हुए हैं। वहीं एक युवक ने यह बताया कि आरक्षण समाप्त किए जाने को लेकर यह एकत्रितकरण हुआ है।

sirohi band
pictures of sirohi band

-इस तरह निभाया पडोसी धर्म निभाया

सिरोही में बंद के दौरान राजमाता धर्मशाला रोड स्थित हुड पोसिस वर्क वाले जेठमल आर्य की चर्चा सबकी जुबान पर थी। बंद समर्थकों के समुदाय से होते हुए उन्हें भी इनके साथ होना था, लेकिन जैसे ही बंद समर्थकों में शामिल लोगों द्वारा उनके पडोसी बर्तन के दुकान वाले को लहूलुहान करने पर वह भी आक्रोशित हो गए। इसके बाद पुलिस के साथ उन्होंने भी बंद के समर्थन में आए लोगों को बैट से धोना शुरू कर दिया। उनके लिए उनका पडोसी धर्म जातीय उन्माद से ज्यादा बढकर रहा।

-आबूरोड में हुआ सीएलजी बैठक का असर

माउण्ट आबू उपखण्ड में बंद और रैली शांतिपूर्ण रही। उपखण्ड अधिकारी सुरेश ओला ने बताया कि बंद से पूर्व ही सभी पक्षों से बैठक कर ली थी। सीएलजी बैठक में सबके मध्य में वार्ता हो गई थी। इससे आबूरोड व माउण्ट आबू में रैली और प्रदर्शन 12 बजे तक पूर्ण शांति से निपट गया। सरूपगंज में हल्की बहसबाजी जरूर हुई थी, लेकिन उसे भी नियंत्रित कर लिया गया।

-इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश आए

इधर, भारत बंद को लेकर संभागीय आयुक्त द्वारा बंद के दौरान अफवाह फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद करने के आदेश जारी किए जा चुके हैं। हाल ही में किए गए संशोधन के बाद इंटरनेट बंद करने के अधिकार राज्य सरकार द्वारा जिला कलक्टर्स से लेकर डिविजनल कमिश्नर को दे दिए गए हैं।

ऐसे में डिविजनल कमिश्नर द्वारा जारी किए गए आदेशों से जोधपुर संभाग के सभी सात जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद की जाएंगी। उल्लेखनीय है कि हनुमान जयंती पर पाली जिले के जैतारण में विवाद होने के कारण पहले ही इंटरनेट सेवा बंद की हुई है।

-इनका कहना है…

जिले भर में शांतिपूर्ण रैलियां निपट गई हैं। सिरोही में एक व्यापारी से मारपीट की। शेष स्थानों पर बंद और रैलियां शांतिपूर्ण संपन्न हुई। डिविजनल कमिश्नर द्वारा इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश आए हैं। सिरोही जिले में ऐसी आवश्यकता नहीं नजर आ रही है। लेकिन जिला कलक्टर से इस पर बात की जा रही है।
ओमप्रकाश
पुलिस अधीक्षक, सिरोही।
जिले में बंद शांतिपूर्ण रहा। हर जगह हजार-डेढ हजार लोगों का एकत्रितकरण रहा। डिविजनल कमिश्नर ने इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश जारी किए हैं। यह अधिकार राज्य सरकार द्वारा डिविजनल कमिश्नर कुछ देर में सिरोही में भी इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाएगी।
संदेश नायक
जिला कलक्टर, सिरोही।

VIDEO अजमेर बंद : पुलिस ने भांजी लाठियां, पूर्व विधायक जयपाल को भी नहीं बख्शा

VIDEO : अजमेर बंद के दौरान लाठी लेकर हुडदंग मचाने वालों पर पुलिस ने भांजी लाठियां