बारबोरा क्रेजिकोवा बनी फ्रेंच ओपन की नई मलिका

पेरिस। चेक गणराज्य की बारबोरा क्रेजिकोवा ने रूस की अनस्तासिया पाव्ल्युचेंकोवा को शनिवार को तीन सेटों में पराजित कर वर्ष के दूसरे ग्रैंड स्लेम फ्रेंच ओपन की नई मलिका बनाने का गौरव हासिल कर लिया।

क्रेजिकोवा ने पाव्ल्युचेंकोवा को एक घंटे 58 मिनट तक चले मुकाबले में 6-1, 2-6, 6-4 से पराजित कर पहली बार फ्रेंच ओपन का खिताब अपने नाम किया। पाव्ल्युचेंकोवा अपने 52वें ग्रैंड स्लेम में जाकर पहला फ़ाइनल खेल रही थीन जबकि क्रेजिकोवा का अपने पांचवें ग्रैंड स्लेम में यह पहला फ़ाइनल था।

क्रेजिकोवा 1981 में होना मांडलिकोवा (पूर्व चेकोस्लोवाकिया की तरफ से खेलने वाली) के बाद फ्रेंच ओपन का खिताब जीतने पहली चेक महिला खिलाड़ी बनी हैं। विश्व की 33वें नंबर की खिलाड़ी क्रेजिकोवा पिछले पांच वर्षों में खिताब जीतने वाली तीसरी गैर वरीयता प्राप्त खिलाड़ी बनी हैं। इससे पहले जेलेना ओस्तापेंको ने 2017 में और इगा स्वीयतेक ने 2020 में यह उपलब्धि हासिल की थी

25 वर्षीय क्रेजिकोवा के पास दो महिला युगल खिताब और तीन मिश्रित युगल ग्रैंड स्लेम खिताब मौजूद हैं और अब उनमें यह एकल खिताब भी जुड़ गया है। फाइनल के पहले दो सेट में दोनों ने अपना दबदबा बनाये हुए जीत हासिल की। क्रेजिकोवा ने पहला सेट 6-1 से जीता लेकिन क्रेजिकोवा ने वापसी करते हुए दूसरा सेट 6-2 से जीत लिया।

निर्णायक सेट में दोनों खिलाड़ियों ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाया। निर्णायक सेट में 3-3 की बराबरी के बाद क्रेजिकोवा ने सातवें गेम में ब्रेक हासिल कर 4-3 की बढ़त बनाई।

आठवें गेम में क्रेजिकोवा के पास दो ब्रेक अंक थे लेकिन पाव्ल्युचेंकोवा ने दोनों ब्रेक अंक बचा लिए और अपनी सर्विस बचाकर स्कोर 5-4 कर दिया। 10 वें गेम में क्रेजिकोवा ने अपनी सर्विस पर दो मैच अंक हासिल किए। पाव्ल्युचेंकोवा ने एक मैच अंक बचाया लेकिन क्रेजिकोवा ने फिर रूसी खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया और एक घंटे 58 मिनट में मैच समाप्त कर दिया।