‘झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में’ 53 साल बाद फिर सुर्खियों में

bareilly to finally get its jhumka

बरेली। झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में 53 साल के बाद एक बार फिर देश भर में सुर्खियों में है। 53 साल पहले बरेली से गायब हुआ यह झुमका अब मिल गया है। वर्ष 1967 में आई फिल्म ‘मेरा साया’ का गाना देश भर में जबरदस्त लोकप्रिय हुआ था, बरेली ने तो इस गाने को सर आंखों पर बिठाया ही था। इसका कारण था कि इस गाने में बरेली का नाम आया था। बरेली के लोगों में यह गाना आज भी लोकप्रिय बना हुआ है। हम आपको बता दें कि झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में एक बार फिर क्यों सुर्खियों में है। हम आपको सीधे बरेली ही ले चलते हैं।

बरेली को गायब हुआ झुमका अब मिल गया है

कई सालों के इंतजार के बाद बरेली को उसका गिरा हुआ झुमका वापस मिल गया है। साल 1966 में रिलीज हुई फिल्म ”मेरा साया” का गाना ”झुमका गिरा रे, बरेली के बाजार में”आपने सुना ही होगा। इस गाने के रिलीज होने के बाद बरेली का नाम लोगों की जुबां पर चढ़ गया था और इस गाने में एक्ट्रेस अपना झुमका ढूंढ रही थी और वो तलाश अब खत्म हो गई है। अब शहर को वो गिरा हुआ झुमका वापस मिल गया है।

बरेली में एनएच 24 पर जीरो पॉइंट पर झुमका तिराहा बनाया गया है, जहां एक विशाल झुमका लगाया गया है। इस झुमके का लोकार्पण केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने किया। दिल्ली से आने वाले लोगों को ये झुमका देखने को मिलेगा और झुमका देखकर लोग एक बार सेल्फी लेने को जरूर मजबूर हो जाएंगे।

बरेली के झुमका स्थल तिराहे काे देखने के लिए लोगों की लग रही भीड़

अब बरेली में झुमका तिराहा बनाया गया है। यहां एक पोल पर झुमके की आकृति को बनवाया गया है, जो लोगों को खासा आकर्षित कर रहा है। बरेली जिले स्थित एनएच 24 का जीरो पॉइंट अब लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। इसकी वजह है यहां बनाया गया झुमका तिराहा। इस तिराहे से गुजरने वाले लोग खास झुमके को देख उसकी तस्वीर लेने से खुद को नहीं रोक पाते हैं। यहां कोई झुमके के साथ सेल्फी लेता है तो कोई इसकी अलग-अलग तस्वीरें अपने कैमरे में कैद करता है।

झुमका मिलने के बाद शहर के लोग और जिला प्रशासन खुश है

53 साल के बाद बरेली के लोगों को गायब हुआ झुमका मिलने पर पूरा शहर मानो खुशियां मना रहा है। वही झुमका को लेकर बरेली प्रशासन भी खूब उत्साहित है। बरेली विकास प्राधिकरण की योजना थी की ये फ़िल्म अभिनेत्री साधना के लिए श्रद्धांजलि भी होगी लेकिन झुमका लगाने के लिए इसमें लगने वाली लागत की वजह से ये नहीं हो पाया क्योंकि बीडीए के पास इतना पैसा नहीं था जिसके बाद शहर के लोगों से सहयोग मांगा गया। इसके बाद इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के मालिक डॉ. केशव अग्रवाल ने झुमका लगाने की जिम्मेदारी ली। बाद में बीडीए के सहयोग से आखिरकार झुमका लगकर तैयार हो गया।

झुमका गिरा रे के गाने के बाद बरेली देश भर में मशहूर हो गया था

वर्ष 1967 में आई फिल्म मेरा साया का गाना झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में इतना लोकप्रिय हुआ थी कि उत्तर प्रदेश का यह शहर बरेली भी देश भर में मशहूर हो गया था। अभिनेत्री साधना ने ‘झुमका गिरा रे, बरेली के बाजार में’ गीत को इतनी बखूबी निभाया था कि यह लोगों के बीच चर्चा में आ गया। अब बरेली और झुमका एक दूसरे की पहचान बन गए। बता दें कि ‘मेरा साया’ फिल्म में सुनील दत्त और साधना ने मुख्य भूमिका अदा की थी। इस गीत को आशा भोसले ने गाया था। बरेली का जिक्र होते ही यह सवाल भी होने लगता कि झुमका मिला या नहीं ?

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार