मौसम के बदलते मिजाज में सेहत के प्रति रहें सावधान

Be careful about your health in changing weather patterns

हेल्थ डेस्क। कुछ दिनों से मौसम का मिजाज तेजी के साथ बदल रहा है। यह बदलता मौसम सेहत के लिए हमेशा कष्टदायक रहा है। जब हमारा शरीर अचानक मौसम के बदलाव में आकर प्रवेश करता है, तब हमें खांसी, सर्दी, जुकाम और बुखार की संभावना अधिक बढ़ जाती है। अगर इन बीमारियों में से आपको कोई शिकायत हो तो जल्दबाजी में अंग्रेजी दवाइयों से परहेज करें। घरेलू नुस्खे भी आपके इससे निपटने के लिए कारगर हो सकते हैं।

यहां हम आपको बता दें कि इस बार पूरे उत्तर भारत में जबरदस्त कराके की ठंडी ने लोगों के हाड़ कंपा दिए थे। उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश बिहार में इस बार की ठंड में जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त कर दिया था, लेकिन अब सर्दी का समापन हो रहा है। गर्मी तेजी के साथ दस्तक दे रही है, ऐसे में बदलते मौसम में सावधान रहने की जरूरत है।

मौसम के बदलाव में जरा भी लापरवाही पड़ सकती है भारी

मौसम में बदलाव के वक्त थोड़ी सी भी लापरवाही की वजह से तबीयत खराब हो सकती है। सर्दी का असर अब कम हो रहा है और मौसम में बदलाव साफ दिखने लगा है। मौसम में बदलाव के दिनों में सबसे अधिक सावधानी बरतने की जरूरत होती है। इन दिनों में थोड़ी सी भी लापरवाही की वजह से आपकी तबीयत खराब हो सकती है। मौसम में बदलाव की वजह से वायरल, इंफेक्शन, खांसी-जुकाम जैसी समस्याएं आम हो जाती हैं। इनसे पीड़ित होने पर लोग अमूमन तुरंत दवा ले लेते हैं लेकिन इससे बचना चाहिए। पहले कुछ घरेलू उपाए करने चाहिए, ये उपाए काफी कारगर होते हैं जिससे आप वायरल और खांसी-जुकाम से छुटकारा पा सकते हैं।

ऐसे मौसम में वायरल बुखार बहुत तेजी के साथ फैलता है

बदलते मौसम में वायरल फीवर बहुत तेजी के साथ फैलता है। शरीर में कुछ खास तरह के लक्षण दिखते हैं। इन लक्षणों में- गले में दर्द, खांसी, सिर दर्द, थकान, जोड़ों में दर्द के साथ ही उल्टी और दस्त होना, आंखों का लाल होना और माथे का बहुत तेज गर्म होना शामिल है। वायरल फीवर होने पर तुरंत दवा नहीं लेनी चाहिए। खाने के साथ-साथ तरल पदार्थ के सेवन की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए। इसमें पानी, सूप, चाय, नारियल पानी और दाल का पानी पीने से राहत मिलती है। अगर स्वास्थ्य कई दिनों तक सही नहीं हो रहा है तो डॉक्टर से अवश्य चेकअप कराएं।

घरेलू उपाय भी हो सकते हैं कारगर

वायरल बुखार से पीड़ित होने पर दवा की जगह कुछ घरेलू उपाए भी बेहद कारगर होते हैं। इन समस्याओं को खत्म करने में शहद, अदरक और हल्दी काफी असरदार हैं। अदरक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। इसमें एंटी फ्लेमेबल, एंटीऑक्सिडेंट और ऐसे कई गुण होते हैं जिससे वायरल बुखार को खत्म करने में मदद मिलती है। अदरक, हल्दी और शहद को मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से वायरल बुखार में काफी राहत मिलती है। गले में खराश होने पर गुनगुने पानी से गरारा करते रहें।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार