तानाशाही और भ्रष्टाचार का अड्डा बना जयपुर नगर निगम

Jaipur municipal corporation

जयपुर। भारत वाहिनी पार्टी के जयपुर शहर अध्यक्ष विमल अग्रवाल ने कहा कि जिस तरह से वसुंधरा सरकार ने प्रदेश को पिछले साढ़े चार साल से तानाशाही और लूट का अड्डा बनाया हुआ है, ठीक उसी तरह जयपुर नगर निगम उसी राह पर आगे बढ़ता दिख रहा है।

विमल अग्रवाल ने जयपुर महापौर अशोक लाहोटी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने नगर निगम में तानाशाही और उनके अधिकारियों ने भ्रष्टाचार का तांडव मचा रखा है साथ ही वे अपने भ्रष्ट अधिकारियों को बचाने में भी लगे हैं।

अग्रवाल ने कहा कि शहर में करोड़ों रुपयों का घोटाला पट्टा देने में हुआ, कचरा उठाने वाली कंपनी को अनाप-शनाप बिलों का भुगतान किया जा रहा है, नगर निगम द्वारा जयपुर शहर में विभिन्न जगहों पर लगाए गए कचरा पात्र में भी भारी मात्रा में घपला किया गया।

विमल अग्रवाल कहा कि शहर में हाई कोर्ट की रोक के बावजूद अवैध रूप से व्यावसायिक कॉम्प्लेक्स का निर्माण किया जा रहा है। स्मार्ट सिटी के नाम पर आए बजट को दोनों हाथों से लुटाया जा रहा है। महापौर के पास हजारों की तादात में प्रथम अपील के प्रार्थना पत्र लंबित पड़ें हैं किंतु महापौर उनकी सुनवाई करने के बजाय उन्हें लटकाए रखना चाहते हैं।

वाहिनी के शहर अध्यक्ष अग्रवाल ने कहा कि सत्ताधारी दल भाजपा के पार्षद भी महापौर पर गंभीर आरोप लगा चुके हैं, किन्तु उनकी भी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है क्योंकि महापौर को मुख्यमंत्री का वरदहस्त प्राप्त है।

उन्होंने कहा कि महापौर और पार्षदों की लड़ाई में जयपुर शहर का विकास ठप्प पड़ा है। जगह जगह गंदगी के ढ़ेर नजर आ रहे हैं। नालों की सफाई के नाम पर करोड़ों रुपए निगम से उठा तो लिए गए हैं किन्तु शहर के सभी छोटे बड़े नाले अभी तक गंदगी से भरे पड़ें हैं।

उन्होंने कहा कि भारत वाहिनी पार्टी जयपुर शहर के सभी कार्यकर्ता भ्रष्टाचार के सबूत जुटा कर शीघ्र ही नगर निगम, महापौर और भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ पोल—खोल अभियान जल्द ही छेड़ेगी।