भारत विकास परिषद अजयमेरू का निशुल्क भोजन वितरण प्रकल्प को विराम

अजमेर। भारत विकास परिषद अजयमेरू की ओर से 51 दिन से कोरोना संक्रमितों, होम क्वारंटाइन परिवारों के लिए निशुल्क भोजन वितरण कार्यक्रम को मंगलवार को विराम देकर समापन किया गया।

संस्था के शाखा सचिव अनुपम गोयल ने बताया कि कोरोना संक्रमित, होम क्वारंटाइन परिवारों तक निशुल्क भोजन पहुंचाने का सेवा कार्य 19 अप्रेल को 60 भोजन पैकट से प्रारम्भ किया गया था जो समापन के दिन 8 जून को 51वें दिन 33500 भोजन पैकेट वितरण तक पहुंच गया।

सरंक्षक सतीश बंसल ने बताया कि बीते 51 दिनों में शहर के हर क्षेत्र के साथ ही नेहरू अस्पताल, सेटेलाइट अस्पताल, आदर्श नगर, पंचशील अस्पताल आदि स्थानों पर लगभग 1800 से अधिक कोरोना मरीजों व होम क्वारंटाइन परिवारों को 33500 से अधिक भोजन पैकट का वितरण किया गया।

भोजन की थाली शुद्ध एवं सात्विक तरीके से बनाकर पोजोटिव मरीज व परिवारजनों तक उनके घर पहुंचाए गए। भोजन में 4 चपाती घी लगी, चावल, दाल, सब्जी, सलाद व अचार दिया जा रहा था। सभी जरूरतमंदों तक गरम खाना पहुंचे इस के लिए तीन स्थानों लोढा धर्मशाला पृथ्वीराज मार्ग, भारत विकास परिषद मेन ट्रस्ट भवन पंचशील, तीसरी प्रगर्ति नगर कोटड़ा में अन्नपूर्णा रसोई की स्थापना की गई।

अध्यक्ष हनुमान श्रीया ने बताया की संस्था ने कोरोना संक्रमित परिवारों के अतिरिक्त सड़क किनारे रहने वाले खानाबदोश लोगों को भी तीन हजार भोजन पैकट का वितरण किया साथ ही अजयमेरू शाखा की ओर से गौमाता की सेवा मे प्रतिदिन एक हजार चपाती गायों को, 20 किलो टोस्ट श्वानों व नोसर से लेकर पुष्कर घाटी तक बन्दरों को फल व ताजा सब्जी अर्पण की गईं।

जिन परिवार मे शोक हुआ उन परिवारों को भी प्रथम तीन दिन व बारवीं पर परिवार कि मांग के अनुसार निशुल्क भोजन शाखा की ओर से उपलब्ध कराया गया। अजयमेरू शाखा द्वारा ऐसे जरूरतमंद परिवार जो बेरोजगार हैं व खाना बना सकते हैं उन्हें राशन सामग्री भी उपलब्ध करवाई गई।

शाखा कोषाध्यक्ष अशोक टाक ने बताया कि जिस कोरोना संक्रमित होम क्वारंटाइन परिवारों को घर पर भोजन बनाने मे कठिनाई आ रही थी ऐसे परिवारों से संपर्क कर शाखा कार्यकर्ताओं ने उन तक सुबह व शाम को भोजन उपलब्ध कराया। कार्यकर्ताओं ने बिगड़े मौसम की परवाह नहीं करते हुए भी आंधी बरसात में भी भोजन पहुंचाने के काम की गति को मंद नहीं पडने दी।

51 दिन चले इस सेवा कार्य में शहर के भामाशाहों ने भी बिना मांगे भरपूर सहयोग किया, जिससे 15 दिन के लिए शुरू किया गया यह सेवा कार्य 51 दिन तक चलता रहा। भोजन पैकट के साथ इम्यूनिटी बुस्टर दवाओं के किट समय समय पर सभी परिवार को उपलब्ध कराए गए।

सेवा कार्य में हेमंत गुप्ता, अलका गुप्ता, रैलिश बंसल, मनोज मामनानी, रचना गोयल, हेमंत अग्रवाल, सुधीर गुप्ता, प्रतीक मंगल, लोकेश चौधरी, सचिन सोनी, रवि कांत शर्मा, राजेन्द्र, प्रशांत शर्मा, ललित शर्मा, भरत मेघवाल, राहुल जैन, संदीप दोषी, निखिल माथुर, ब्रिजेश माथुर, चितलेश बंसल, खगेश नारायण गौड़, अनुज माथुर, आजाद गर्ग, कान्हा राम वैष्णव, नरेश भाटिया, सुनील माहेश्वरी, अर्पित शर्मा, लोकेश अग्रवाल, कान्हा बसीटा आदि कार्यकर्ताओं का सहयोग रहा।