अजमेर : भोलानाथ आचार्य सेवानिवृत, 37 साल तक दी रोडवेज में सेवा

अजमेर। राजस्थान परिवहन निगम के अजमेर बस स्टेंड पर प्रबंधक (प्रशासन) पद से भोलानाथ आचार्य शुक्रवार को सेवानिवृत हुए। निगम के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने उन्हें भावभीनी विदाई दी। लॉकडाउन के चलते एक स्थान पर अधिक लोगों के नहीं जुटने की बंदिश के चलते रोडवेज के कर्मचारी बारी बारी से उनसे मुलाकात की तथा सम्मान किया।

आचार्य ने 37 साल तक रोडवेज को अपनी सेवाएं दीं। सेवाकाल के दौरान ही कर्मचारियों के हितार्थ उन्होंने यूनियन के जरिए निरंतर संघर्ष किया। वर्तमान में भी वे भारतीय मजदूर संघ संभाग प्रभारी के रूप में काम देख रहे हैं।

इस मौके पर विभिन्न कर्मचारी संघों के जुडे प्रतिनिधियों ने भी आचार्य का सम्मान किया तथा उन्हें एक जुझारू कर्मशील राजसेवक के साथ साथ कर्मचारियों के हित में निरन्तर संघर्षरत रहने वाला बताया। आचार्य ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को एकजुट करने में अहम भूमिका निभाई तथा उनका संगठन मजबूती केे साथ खडा किया। सरकारी महकमों में सबसे कनिष्ठ कर्मचारियों को उनका हक दिलवाने के लिए आचार्य कभी पीछे नहीं हटे।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचारधारा के समर्थक आचार्य का विभिन्न धार्मिक संगठनों से जुडे प्रतिनिधियों ने लॉकडाउन के दिशा निर्देशों की पालना करते हुए बस स्टेंड से लेकर वैशाली नगर तक के मार्ग में जगह जगह उन्हें फूल मालाएं पहनाई तथा उन पर पुष्पवर्षा की। इस मौके पर विहिप के लेखराज सिंह राठौड, महानगर अध्यक्ष सत्यनारायण भंसाली, राष्ट्रीय स्वयसेवक संघ के मोहन खंडेलवाल, निरंजन शर्मा, भामस के ​विनीत गर्ग, सबगुरु न्यूज के विजय मौर्य समेत अनेक गणमान्यजनों ने आचार्य का सम्मान किया।