अमर जवान ज्योति को बंद करना शहीदों की शहादत का अपमान : गहलोत

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि अमर जवान ज्योति को बंद कर इसे मर्जर का नाम देना इसकी पवित्रता को कमतर करने का प्रयास एवं शहीदों की शहादत का अपमान है।

गहलोत ने आज सोशल मीडिया के जरिए यह बात कही। उन्होंने कहा कि अमर जवान ज्योति पाकिस्तान के दो टुकड़े करने वाले सैनिकों की स्मृति थी। इसको बन्द कर ‘मर्जर’ का नाम देना उस ज्योति की पवित्रता को कमतर करने का प्रयास है। बांग्लादेश युद्ध विजय के 50 वर्ष पूर्ण होने पर ऐसा कृत्य करना घोर निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति को बुझाकर दो ज्योतियों को एक करने का औचित्य हर किसी की समझ से बाहर है। अगर शहीदों के सम्मान में दो अलग-अलग ज्योति जलती रहतीं तो मोदी सरकार को क्या परेशानी थी। बीते 50 वर्षों से शहीदों को नमन कर रही अमर जवान ज्योति को बन्द करना शहादत का अपमान है।

उन्होंने कहा कि ऐसा करना इतिहास बदलने का प्रयास है परन्तु मोदी सरकार को ये समझ लेना चाहिए कि ऐसे प्रयासों से इतिहास नहीं बदलता बल्कि महान कार्य कर स्वर्णिम इतिहास बनाना पड़ता है।