बिहार : नाबालिग को जेल भेजने के मामले में 12 पुलिसकर्मी निलंबित

Bihar : 12 police personnels suspended for sending minor to jail for refusing to provide free vegetable
Bihar : 12 police personnels suspended for sending minor to jail for refusing to provide free vegetable

पटना। बिहार में राजधानी पटना के चित्रगुप्त नगर इलाके में मुफ्त सब्जी नहीं देने पर एक नाबालिग सब्जी विक्रेता को मोटरसाइकिल लूट के झूठे आरोप में जेल भेजे जाने के मामले सोमवार को दो थाना प्रभारियों समेत 12 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया।

पुलिस महानिरीक्षक (पटना प्रक्षेत्र) एनएच खान ने बताया कि अगमकुआं के थाना प्रभारी कामाख्या नारायण सिंह एवं बायपास के थाना प्रभारी राजेंद्र प्रसाद के अलावा दस अन्य पुलिसकर्मियों को मुफ्त में सब्जी नहीं देने पर मोटरसाइकिल लूट के झूठे आरोप में नाबालिग पंकज को जेल भेजने के मामले में दोषी पाया गया।

उन्होंने बताया कि जांच में दोषी पाए जाने के बाद इन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। हालांकि इस मामले में जब प्राथमिकी दर्ज की गई थी उस समय कामाख्या नारायण सिंह अवकाश पर थे और अगमकुआं थाने का प्रभार मुन्ना कुमार वर्मा के पास था। इस मामले में उन्हें भी निलंबित किया गया है।

खान ने बताया कि इसके अलावा रिपोर्ट में पटना सिटी के तत्कालीन पुलिस उपाधीक्षक हरिमोहन शुक्ला के खिलाफ विभागीय कार्यवाही शुरू करने के साथ ही उन्हें निलंबित किए जाने की अनुशंसा की गई है।

उन्होंने बताया कि मामले को लेकर अगमकुआं थाने के शेष सभी पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है क्योंकि इसी थाने की पुलिस टीम ने नाबालिग को गिरफ्तार किया था। इस मामले में नाबालिग पिछले तीन महीने से जेल में बंद है।

पुलिस महानिरीक्षक खान ने इस मामले की जांच रिपोर्ट राज्य के पुलिस महानिदेशक केएस द्विवेदी को सौंपी है। रिपोर्ट में इस मामले में पुलिस द्वारा पहले की गई जांच को सही नहीं माना गया है।

इसके अलावा रिपोर्ट में पुलिस के उस दावे को भी गलत पाया गया है, जिसमें कहा गया था कि लड़के को बायपास थाना क्षेत्र के ऑटो शोरूम के पास से एक मोटरसाइकिल के साथ गिरफ्तार किया गया। हालांकि सच्चाई यह है कि पुलिस ने उसे उसके घर से गिरफ्तार किया था।

उल्लेखनीय है कि बेऊर मंडल कारा में पिछले तीन महीने से बंद नाबालिग को सुधार गृह भोजा जाएगा और जमानत करवाने के लिए सरकार की ओर से उसे सहायता दी जाएगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजधानी पटना के चित्रगुप्त नगर इलाके में मुफ्त सब्जी नहीं देने पर एक नाबालिग सब्जी विक्रेता को मोटरसाइकिल लूट के झूठे आरोप में जेल भेजे जाने के मामले में 21 मई को जांच के आदेश दिए थे। इस मामले की जांच पुलिस महानिरीक्षक (पटना प्रक्षेत्र) को सौंपी गई थी।