बिहार में रंगों के त्योहार होली पर चारों ओर हर्षोल्लास

Bihar celebrates the festival of colors
Bihar celebrates the festival of colors

पटना। बिहार में रंगों और खुशियों का त्योहार होली आज पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। रंगों के इस त्योहार में सभी वर्गों के लोग सभी तरह के भेद-भाव भुलाकर एक दूसरे से गले मिले और होली की बधाईयां दी।

इस मौके पर गली-मुहल्लों में नवयुवकों और बच्चियों की टोली होली और लोक गीतों की धुनों पर थिरकते हुए एक दूसरे को गुलाल लगाकर पर्व का आनंद उठाते देखे गए। लाल, गुलाबी , हरे और पीले रंगों में लोगों के बीच बड़े, छोटे, गरीब-अमीर और जाति धर्म का सभी भेद समाप्त कर दिया तथा लोग बड़े उत्साह से एक दूसरे को अपने ही रंगों में सराबोर करने में लगे रहे।

उधर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय समेत कई नेता मुजफ्फरपुर जिले के धर्मपुर में पिछले 24 फरवरी को सड़क हादसे में नौ स्कूली छात्रों की हुई मौत के कारण इस बार होली नहीं खेली। हालांकि सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड और भाजपा के नेताओं ने शाम में होली की शुभकामना देने उनके आवास पर आए लोगों को गुलाल लगाया।

वहीं राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के चारा घोटाले के एक मामले में रांची जेल में बंद रहने के कारण उनके दस सर्कुलर रोड़ स्थित सरकारी आवास पर भी होली नहीं खेली गई। राजद अध्यक्ष के बड़े पुत्र एवं पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव के साथ ही उनके छोटे भाई विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने भी इस बार होली नहीं खेली। राजद कार्यालय में हर बार की तरह चहल-पहल नहीं रहा।

प्रदेश में शराबबंदी के कारण हुड़दंग करने वाले पिछले साल की तरह इस बार भी कहीं नजर नहीं आए। सड़कों पर हुडदंग करने वालों के नहीं होने से आम लोग बेहद खुश हैं। पुलिस भी होली के दौरान हुड़दंग करने वालों पर विशेष नजर रख रही है और इसके लिए राजधानी पटना समेत सभी जिलों में अतिरिक्त पुलिस बलों की तैनाती की गई।

राजधानी पटना में होली के मौके पर हुड़दंगियों पर विशेष नजर रखने के लिए तीन हजार जवानों को जगह-जगह लगाया गया। एहतियात के तौर पर पुलिस लाइन में भी अतिरिक्त रिर्जव बल रखा गया। त्योहार को देखते हुए इस बार केन्द्रीय त्वरित कार्य बल को पहले से ही बुला लिया गया।