बिहार के छात्रों का परीक्षा केंद्र बेंगलुरु बनाना गलत : रंजीत रंजन

बिहार के छात्रों का परीक्षा केंद्र बेंगलुरु बनाना गलत : रंजीत रंजन
बिहार के छात्रों का परीक्षा केंद्र बेंगलुरु बनाना गलत : रंजीत रंजन

नयी दिल्ली । रेलवे की परीक्षा के लिए अभ्यर्थी का केंद्र उसके निवास स्थान से हजारों किलोमीटर देने का ममाला आज लोकसभा में उठा और स्थानीय स्तर पर ही छात्रों के लिए परीक्षा केंद्र बनाने की मांग की गयी।

कांग्रेस की रंजीत रंजन ने शून्यकाल में यह मामला उठाया और कहा कि रेलवे के लिए 26 हजार से अधिक पद निकले हैं और इसकी ऑनलाइन परीक्षा आयोजित की गयी है। इन पदों के लिए 47 लाख से ज्यादा बच्चों ने आवेदन किया है, लेकिन उनके साथ रेलवे ने गलत किया है और अभ्यर्थियों के परीक्षा केंद्र उनके घरों से हजारों किलोमीटर दूर बनाये गये हैं।

उन्होंने कहा कि ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए बिहार के विभिन्न जिलों से छात्रों को हैदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, मोहाली आदि स्थानों पर आमंत्रिति किया गया है। इसी तरह से उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पंजाब आदि राज्यों के छात्रों को भी बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि इन छात्रों की ऑनलाइन परीक्षा उनके राज्य में या निकटवर्ती क्षेत्र में आयोजित की जाती तो छात्रों को ज्यादा राहत मिलती।

सुश्री रंजन ने इसे गरीब घरों के बच्चों के साथ अन्याय बताया और कहा कि इन परीक्षाओं में सामान्य घरों के बच्चे बड़ी संख्या में हिस्सा ले रहे हैं। परीक्षा केंद्र दूर पड़ने के कारण एक परीक्षा में शामिल होने के लिए उन्हें कम से कम पांच हजार रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं, जिससे उनके परिजनों पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्र बहुत दूर नहीं बनाये जाने चाहिए।