REET पेपर लीक की CBI जांच की मांग को लेकर BJP ने राज्यपाल के नाम दिया ज्ञापन

जयपुर। राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी प्रतिनिधिमंडल ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां पर बूंदी जिले में हमले एवं पथराव की घटना के आरोपियों पर कार्रवाई और अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) पेपर लीक मामले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो जांच की मांग को लेकर भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को राज्यपाल कलराज मिश्र के नाम उनके प्रतिनिधि को ज्ञापन सौंपा।

प्रतिनिधिमंडल में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ के नेतृत्व में पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी, प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष माधोराम चौधरी, प्रदेश मंत्री श्रवण सिंह बगडी, जयपुर ग्रेटर महापौर सौम्या गुर्जर, प्रदेश प्रवक्ता लक्ष्मीकांत भारद्वाज ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

इसके बाद राठौड़ ने मीडिया को बताया कि रीट पेपर लीक मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर और अलवर मूकबधिर पीड़िता को न्याय को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा जयपुर से लेकर पूरे राजस्थान में मुखरता से आंदोलन किये जा रहे हैं, जिनसे कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार चौतरफा घिर चुकी है और बौखलाहट में हमारे प्रदेश अध्यक्ष पर कायराना हमला किया गया। ऐसे कायराना हमलों से भाजपा डरने वाली नहीं है, किसान कर्जमाफी, पेपर लीक, महिला सुरक्षा, संविदाकर्मी, बिगड़ी कानून व्यवस्था आदि मुद्दों पर हम सड़क से लेकर सदन तक और मुखरता से लड़ाई लड़ेंगे।

उन्होंने कहा कि इन्हीं जनहित के मुद्दों पर विधानसभा में भी जनविरोधी कांग्रेस सरकार को घुटनों के बल लाने पर मजबूर कर देंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को स्वयं और कांग्रेस की जमीनी हकीकत पता चल चुकी है कि कांग्रेस सरकार के खिलाफ पूरे राजस्थान में सत्ता विरोधी लहर का माहौल है और वर्ष 2023 में प्रदेश का किसान एवं युवा कांग्रेस सरकार को सत्ता से विदाई करने के लिए तैयार बैठा है।

चतुर्वेदी ने कहा कि प्रदेश के युवाओं को न्याय दिलाने के लिए रीट पेपर लीक मामले की सीबीआई जांच हो, जिससे सभी नकल माफियाओं को कड़ी सजा मिले। साथ ही डा पूनियां पर हमला करने वाले कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर कड़ी कार्यवाई हो।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा रीट लेवल-2 परीक्षा को रदद् करने से प्रभावित युवाओं से पुनः परीक्षा शुल्क, आवागमन शुल्क नहीं लिया जाए और उनकी तैयारी के लिए कोचिंग शुल्क और कमरे का किराया राशि उपलब्ध कराई जाए, जिससे इन अभ्यर्थियों को रीट लेवल-2 की तैयारी के लिए संबल मिल सके।

शर्मा ने कहा कि कांग्रेस सरकार में मंत्री सुभाष गर्ग जो भरतपुर से विधायक हैं, यह स्वयं राजीव गांधी स्टडी सर्किल के को-कॉर्डिनेटर हैं, रीट पेपर लीक मामले के तार इस सर्किल से सीधे जुड़े होने की बात सामने आ रही है, इसलिए हमारी राज्य सरकार से मांग है कि रीट पेपर लीक मामले में गर्ग सहित सभी छोटे-बड़े लोगों की जांच होनी चाहिए और इस पूरे मामले की सीबीआई जांच हो जिससे निष्पक्ष जांच हो सके।