राजगढ़ में मंदिर तोड़ने के मामले में भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने लिया जायजा

अलवर। राजस्थान में अलवर जिले के राजगढ़ कस्बे में दुकान, मकान एवं मन्दिरों को तोड़ने के विरोध में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां के निर्देशानुसार प्रदेश महामंत्री एवं विधायक मदन दिलावर के नेतृत्व में पांच सदस्यीय समिति ने आज सराय बाजार स्थित मन्दिरों एवं प्रभावित लोगों से वार्ता कर स्थिति का जायजा लिया।

समिति में सीकर सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती, प्रदेश उपाध्यक्ष एवं विधायक केशोरायपाटन चन्द्रकान्ता मेघवाल, बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ भाजपा के प्रदेश संयोजक राजेन्द्र सिंह शेखावत, राजनीतिक प्रतिपुष्टि फीडबैक विभाग के प्रदेश सहसंयोजक ब्रजकिशोर उपाध्याय एवं सवाई माधोपुर के भवानी मीणा शामिल है। ये समिति तीन दिवस में तथ्यात्मक रिर्पोट प्रस्तुत करेगी।

सीकर सांसद ने इस अवसर पर कहा कि मास्टर प्लान में स्पष्ट कहा गया था कि आवश्यकतानुसार ही अतिक्रमण हटाया जाएगा। छज्जे एवं चबूतरों को हटाया जाएगा। अगर जरूरत पड़ी तो उसके आगे अतिक्रमण हटेगा। गौरव पथ बनाने के लिए भी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया जिसमें इस तरह का अतिक्रमण हटाया जाए। बीजेपी का बोर्ड भले हो पर बीजेपी पार्षदों को धोखे में रखकर ये कार्रवाई की गई। बीजेपी को बदनाम करने के लिए कांग्रेस ने ये षडयंत्र रचा है।

उस बोर्ड को बैठक में स्पष्ट कहा गया कि पहले अतिक्रमण चिन्हित किया जाएगा।नोटिस दिया जाएगा। जवाब मिलने के बाद ही अतिक्रमण हटाया जाएगा। लेकिन इस आड़ में कांग्रेस सरकार ने ये कार्रवाई करवाई है। कांग्रेस सरकार यहां की जनता को भड़काकर भाजपा बोर्ड गिराना चाहती है। इसके संकेत खुद यहां के विधायक जोहरी लाल मीना ने ये कहते हुए दिए कि बोया पेड़ बबूल का तो आम कहां से होय। ये बात विधायक ने एक प्रोग्राम में सार्वजनिक रूप से दिया।

मास्टर प्लान के तहत कस्बे के सराय बाजार में मार्ग बने बाधा दुकान, मकान व मन्दिरों को प्रशासन की ओर से तोड़ने के विरोध सराय बाजार में धरना दिया जा रहा है धरना स्थल भक्तिमयी हो गया है। स्थानीय कलाकार संजय राजस्थानी एवं सरदार सुरजीत सिंह शिव जी के भजनों के माध्यम से दुःख प्रकट किया है।